Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

जालन्धर : वार्डबंदी का काम अभी भी अधूरा, निगम चुनाव दिसंबर तक टले, आप को कमजोर कर रही अफसराशाही!

जालन्धर अनिल वर्मा








जालन्धर में बीते पांच साल पहले भारी बहुमत के साथ सत्ता में आई कांग्रेस पार्टी का नगर निगम में अभी परचम लहरा रहा है तथा अफसरशाही भी इस बार आम आदमी पार्टी को निगम चुनावों में कमजोर बनाने के लिए वार्डबंदी के काम को लटका रही है। जिसके चलते इस बार नगर निगम के चुनाव दिसंबर तक टल गए हैं। इस वार्डबंदी में जिस तरह कांग्रेस पार्टी ने बखूबी ग्रांऊडवर्क करके अपने चहेतों को जिताने के लिए वार्डबंदी करवाई थी उसके तर्ज पर आम आदमी पार्टी के विधायक सियासी तर्जुबे की मार झेल रहे हैं यही कारण है कि इस बार निगम में आम आदमी पार्टी का जीतना लगभग मुश्किल नजर आ रहा है। इसकी दूसरी बड़ी वजह यह भी है कि जालन्धर से आम आदमी पार्टी के जीते दोनों विधायकों ने नगर निगम की ओर खास ध्यान केन्द्रित नहीं किया और जनसमस्यों को नजरअंदाज किया।

फिलहाल वार्डबंदी का काम अभी जनसंख्या सर्वे तक ही सीमित है। इस बार जालन्धर कैंट हल्के से नए शामिल हुए इलाकों को भी वार्ड नंबर मिलेगा लिहाजा इस बार 80 वार्डों की जगह 90 वार्ड होने की संभावना है। सियासी कल्चर अनुसार वार्डों में एक्टिव पार्टी के वर्करों को पार्षद बनाने के लिए वार्डबंदी की जाती है तांकि उस वार्ड में वोटर ज्यादा से ज्यादा पार्टी को वोट डालें। मगर इस बार पहली बार पंजाब की सत्ता में आई आम आदमी पार्टी के वर्कर अभी तक ग्राऊंड में नहीं उतरे और न ही जन समस्यों की आवाज उठा रहे हैं लिहाजा तजुर्बेहीन तथा नए उम्मीदवार का वोटर बायकाट कर सकते हैं। जिससे नगर निगम पर परचम लहराना आम आदमी पार्टी के लिए विकट समस्या बना हुआ है।