Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

नेपोटिज्म को लेकर उर्मिला मातोंडकर का बड़ा बयान, कहा- ‘मैंने उस समय इसके बारे में बात नहीं की’

बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) का मुद्दा हमेशा से चर्चा में रहा है। कई कलाकारों को इसका शिकार भी होना पड़ा। अक्सर सितारे अपने साथ हुए नेपोटिज्म के दर्द को बयां भी करते रहे हैं। अब बॉलीवुड की काफी पुरानी और बड़ी अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने भी नेपोटिज्म को लेकर बड़ा बयान दिया है, जिसकी काफी चर्चा हो रही है।








बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर- तस्वीर : Instagram: urmilamatondkarofficial

उर्मिला मातोंडकर फिलहाल बड़े पर्दे से दूर हैं। वह इन दिनों राजनीति में सक्रिय हैं। उर्मिला मातोंडकर ने अपने करियर में कई शानदार फिल्में की हैं और बड़े कलाकारों के साथ काम भी किया है। एक समय ऐसा था जब उर्मिला मातोंडकर को नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा। उन्होंने हाल ही में अंग्रेजी वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया को इंटरव्यू दिया है। अपने इस इंटरव्यू में उर्मिला मातोंडकर ने करियर और निजी जिंदगी को लेकर ढेर सारी बातें कीं।

उर्मिला मातोंडकर ने इस दौरान खुलासा किया है कि उन्हें नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा था। हालांकि उन्होंने इसको लेकर उस समय बात नहीं की थी। दिग्गज अभिनेत्री ने कहा, ‘मुझे नेपोटिज्म का सामना करना पड़ा, हालांकि मैंने उस समय इसके बारे में बात नहीं की थी। मुझे ‘खट्टे अंगूर’ के तौर पर देखा जाता था, या फिर ‘नच न जाने आंगन टेड़ा।’ चाहे राजनीति हो, फिल्म हो या कोई अन्य इंडस्ट्री, नेपोटिज्म उतना ही है जितना कि सूरज, चांद और सितारे। यह फिल्म इंडस्ट्री में साफ तौर पर है क्योंकि यह लोगों की नजरों में है।’