Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

Loksabha byelection Jalandhar अकाली बसपा उम्मीदवार डा. सुखी के चुनावी प्रचार में बसपा के टक्साली वर्कर गायब, चुनावी प्रचार ठंडा..!

अनिल वर्मा- जालन्धर लोकसभा सीट जीतने के लिए चाहे अकाली बसपा गठबंधन द्वारा बंगा से विधायक डॉ. सुखविंदर कुमार सुक्खी को मैदान में उतार दिया है मगर अभी तक डा. सुक्खी के साथ बसपा के कई दिग्गज लीडर किनारा कर प्रचार में शामिल नहीं हो रहे यही नहीं पार्टी द्वारा बसपा हाईकमान द्वारा पार्टी के टक्साली वर्करों को चुनाव प्रचार दौरान संपर्क तक नहीं किया गया जिसका खमियाजा डा. सुखी की जीत की राह में बड़ा रोड़ा बना हुआ है।
Jalandhar Lok Sabha Bypol: शिरोमणि अकाली दल ने जालंधर सीट MLA सुखविंदर सुखी को उम्मीदवार बनाया
जालन्धर से बसपा के टक्साली वर्कर अजय कुमार सहगल ने भी इस बात की सहमति जताई कि बसपा लीडरशिप द्वारा पार्टी को समर्पित 2 से 3 लाख वोटों का सही ढंग से मोबिलाईजेशन नहीं किया गया जिसकी वजह से अभी तक जालन्धर में अकाली बसपा उम्मीदवार डा. सुखी के पक्ष में जीत का माहौल बनता दिखाई नहीं दे रहा अगर हालात ऐसे ही रहे तो बसपा के साथ जुड़े कई टक्साली वर्कर तथा सीनियर नेता पार्टी का दामन छोड़ सकते हैं। अकाली दल से दो बार विधायक रह चुके पवन कुमार टीनू भी टिकट मांग रहे थे लेकिन इस पर अकाली दल के भीतर गुटबाजी बन गई और डा. सुक्खी बाजी मार गए । टीनू के मन भी टिकट न मिलने का मलाल बना हुआ है।
सहगल ने कहा कि अकाली दल की तरफ से बिक्रमजीत सिंह मजीठिया प्रभावी ढंग से चुनावी प्रचार में जुटे हुए हैं जिसकी वजह से डा. सुक्खी का ग्राफ जालन्धर में थोड़ा बड़ा है मगर अभी यह ग्राफ जीत से कोसों दूर है इस ग्राफ को और ऊपर ले जाने के लिए पार्टी के टक्साली वर्कर तथा सीनियर नेताओं के गिले शिकवे दूर कर चुनावी प्रचार में शामिल करना होगा।