Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

नार्थ हल्के में सबसे रोचक मुकाबला : मजबूत होकर लौटे केडी भंडारी को क्या मिलेगा जनता का समर्थन या फिर बावा हैनरी फिर मारेंगे बाजी..

अनिल वर्मा
Jalandhar North Constituency जालन्धर नार्थ हल्के में एक बार फिर कांग्रेस और भाजपा के बीच टक्कर का मुकाबला है। चाहे बीते विधानसभा चुनावों दौरान मैदान में पहली बार उतरे कांग्रेस प्रत्याशी बावा हैनरी को पंजाब में मजबूत हुई कांग्रेस का साथ मिला और उन्होने भाजपा प्रत्याशी केडी भंडारी को करीब 34 हजार वोटों से हराया। मगर इस बार मुकाबला कड़ा है। बावा हैनरी के पांच सालों का रिपोर्टकार्ड जनता ने देख लिया है। जिन उम्मीदों से आम जनता ने बावा हैनरी को रिकार्ड वोटों से जीत दिलाई थी इस बार वह उम्मीदें केडी भंडारी के पाले में जाती दिखाई दे रही है।








KD Bhandari, a two-time MLA from Jalandhar, also joined hands with former ministers, demanding a solution to the farmers' agitation. | जालंधर से दो बार विधायक रह चुके केडी भंडारी ने भी
इसी हल्के में आम आदमी पार्टी के दिनेश ढल्ल की एंट्री से मुकाबल त्रिकोणिय हो गया है। ढल्ल के बढ़ते राजनीति कद को देखते हुए उनके समर्थकों की सूचि भी लंबी हुई है। इसी के साथ उन्हे हैनरी के विरोधी माने जाते केबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह का भी समर्थन प्राप्त है। भंडारी इस बार पहले से मजबूत होकर लौटे हैं उन्होने कहा कि नार्थ हल्के में पिछले पांच सालों दौरान क्राईम और नशा तेजी से बड़ा है। मगर विकास नहीं हुआ।

Manifesto should be made legal document: MLA Bawa Henry
वहीं बावा हैनरी का दावा है कि उन्होने अपने कार्यकाल दौरान नार्थ हल्के में करीब 500 करोड़ रुपये के विकासकार्य करवाए। वर्ष 1992 में अवतार हैनरी ने भाजपा के उम्मीदवार को पटकनी देते हुए 23,094 वोटों से जीत दर्ज की थी। पिछले सात चुनावों की बात करें तो कांग्रेस के खाते में नार्थ सीट चार बार व भाजपा के खाते में तीन बार गई है।

 

कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के साढेÞ चार सालों दौरान जनता के बीच कांग्रेस की छवि काफी खराब हुई जिसका नुक्सान विभिन्न सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को होता दिखाई दे रहा है। फिलहाल नार्थ हल्के में सभी पार्टियों का प्रचार जोरों पर चल रहा है देखना दिल्चस्प होगा कि जनता किसे अपना विधायक चुनती है।