Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

जीता मोड़ के घर फिर STF की रेड, 38 लाख नगद और 200 से ज्यादा प्लाटों की रजिस्ट्रियां बरामद

रोजाना पोस्ट








Jeeta mod raid इंटरनेशनल ड्रग रैकेट मामले में पकड़े गए पूर्व ए.सी.पी. बिमलकांत और नशा तस्कर रणजीत सिंह उर्फ जीता मौड़ के काला संघिया स्थित घर में सर्च दौरान एस.टी.एफ. को 38.50 लाख रुपए की नकदी सहित प्लाटों की 200 के करीब रजिस्ट्रियां बरामद हुई हैं। मिली जानकारी देते एस.टी.एफ को इस ड्रग केस में अब तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। बाकी 9 मुलाजिम अब तक फरार है जिसमें जीता मौड़ की पत्नी, पारिवारिक मैंबर, 2 सी.ए. सहित कई नामी नशा तस्कर शामिल हैं। इस सर्च मुहिम के अंतर्गत करीब 4 दर्जन बैंक की पासबुक भी बरामद की गई हैं जिनसे जीता मौड़ के विभिन्न बैंक खातों का पता लगा है। उन्होंने बताया कि पुलिस रिमांड दौरान अब कई अहम खुलासे होने की संभावना है जो आने वाले दिनों में एस.टी.एफ. कर सकती है।

 

The Shepherd' New International Film Based On The Farmers Protest Announced!
चहेते पुलिस अधिकारियों के कारण ए.एस.आई. मुनीष कुमार को बिना ऑर्डर पर जीता मौड़ ने अपने साथ रखा था जिसमें एसीपी रहे बिमलकांत ने अहम भूमिका निभाई थी। उक्त मामले में गिरफ्तार ए.एस.आई. मुनीष कुमार की ड्यूटी पी.ए.पी. 7 बटालियन में थी लेकिन पिछले कई वर्षों से जीता मौड़ के कुछ चहेते पुलिस अधिकारियों कारण अपनी ड्यूटी जीता मौड़ के साथ कर रहा था। खास बात है कि इस संबंध में कोई भी विभागीय आदेश जारी नहीं किए गए थे। 


 

नशा तस्कर जीता मौड़ ने नशे की कमाई से सैकड़ों की संख्या में कालोनियां प्लाट, मकान और कई स्कूल बनाए हैं जिसके सबूत एस.टी.एफ के हाथ लग चुके हैं जिस सम्बन्धित पुलिस गंभीरता से जांच कर रही है। पुलिस इससे सम्बन्धित व्यक्तियों और किस-किस का पैसा लगा होने की जांच कर रही है। जीता मौड़ के पास जो एक पिस्टल और एक रिवाल्वर और भारी संख्या में कारतूस बरामद हुए हैं। इस सम्बन्धित भी पुलिस की जांच जारी है कि यह हथियार कहां से जीता मौड़ तक पहुंचा।