Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

पंंजाब के डिप्‍टी सीएम रंंधावा का नवजोत सिंह सिद्धू पर बड़ा हमला, जानें सीएम पद को लेकर क्‍या कहा

पंजाब 








पंजाब में विधानसभा चुनाव की सरगर्मी चरम पर है, इसके बावजूद कांग्रेस में खींचतान खत्‍म नहीं हो रही है। कांग्रेस के सीएम चेहरे को लेकर पार्टी में घमासान मचा हुआ है।  अब  राज्य के उप मुख्यमंत्री और किसी समय मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे सुखजिंदर सिंह रंधावा ने नवजोत सिंह सिद्धू पर बउ़ा हमला किया है। उन्‍होंंने कहा कि पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष सिद्धू ने उन्‍हें (रंधावा को) कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के बाद सीएम बनने नहीं दिया। 

 

 

रंधावा  ने कहा, कैप्टन को हटाए जाने के बाद मेरा नाम मुख्यमंत्री बनने के लिए हो गया था तय

रंधावा ने पंजाब कांग्रेस का चेहरा घोषित करने के मामले में कहा है कि इस समय दो नेताओं के बीच कशमकश चल रही है। इन पर कोई फैसला हो तो ही किसी तीसरे को मौका मिलेगा। एक टीवी चैनल पर रंधावा ने कहा कि जब कैप्टन अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाया गया था तो मेरे नाम पर सहमति बनने के बाद यह तय भी हो गया था कि वह अगले मुख्यमंत्री होंगे। लेकिन ऐसा नहीं हो सका क्योंकि तब नवजोत सिंह सिद्धू इस बात पर अड़ गए कि अगर किसी जट्ट सिख को मुख्यमंत्री बनाना है तो उन्हें (सिद्धू) क्यों नहीं बनाया जा रहा।

उल्लेखनीय है कि रंधावा ने तो अपने समर्थकों को यह कहकर मिठाइयां भी बांट दी थीं कि पार्टी ने उन्हें मुख्यमंत्री पद के लिए चुन लिया है। परंतु जब बाद में मुख्यमंत्री पद को लेकर पेंच फंसा तो सभी विधायकों की बैठक में पार्टी के पर्यवेक्षकों ने वोटिंग करवाई। इस दौरान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ को सबसे ज्यादा वोट मिले, लेकिन अंबिका सोनी ने यह बयान दे दिया कि पंजाब का मुख्यमंत्री किसी सिख को होना चाहिए।