Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

मेयर और बेरी का अभी भी नगर निगम में दबदबा कायम, नहीं थम रही अवैध इमारतों की सिफारिशें- अजय

अनिल वर्मा वरुण अग्रवाल








शहर में  सियासी दबाव में अवैध इमारतें बनवाने का खेल पिछले लंबे से चल रहा है जिससे 12 साल बीतने के बाद भी मास्टर प्लान को लागू नहीं किया जा सका। ताजा मामला सैदां गेट, मंडी फैंटनगंज और सिविल लाईन से सामने आया है जहां मेयर तथा बेरी की कथित सिफारिशों पर बिना नक्शा पास करवाए बड़ी बड़ी कारोबारी इमारतें तैयार करवाई जा रही है। उक्त बातों का प्रकटावा करते हुए शिकायतकर्ता अजय ने कहा कि बिल्डिंग विभाग में कई शिकायतें करने के बावजूद एटीपी राजिन्द्र शर्मा ने मौके पर काम बंद नहीं करवाया और न ही अभी तक किसी को नोटिस जारी किया है।

बताया जा रहा है कि यह तीनों इमारतें पूरी तरह से अवैध है और पूर्व विधायक रजिंदर बेरी तथा मेयर जगदीश राजा के दबाव में बनवाई जा रही है। अजय ने कहा कि तीनों इमारतों की वीडिग्राफी की गई है तथा जल्द ही मेयर तथा रजिंदर बेरी की शह पर बनाई गई अवैध इमारतों की पूरी सूचि आम आदमी पार्टी पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को सौंपेगे और कारवाई की मांग करेंगे। इन अवैध इमारतों के बदले सरकार के राजस्व की चोरी की जाती है अगर इन इमारतों का नक्शा पास करवा कर  बनवाया जाए तो सरकार के खजाने में लाखों रुपये टैक्स जमा होगा जिससे आम जनता का विकास हो सकता है। शिकायतकर्ता ने कहा कि वह टाऊन प्लानिंग विभाग की पिछले पांच सालों की कार्यप्रणाली के खिलाफ जल्द माननीय हाईकोर्ट में एक याचिका दायर करने की तैयारी कर रहे है।