Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

बगावत पर उतरे केपी: जालन्धर के तीन हल्कों में बिगाड़ेंगे कांग्रेस का खेल..समर्थकों को किया जा रहा एक्टिव..

अनिल वर्मा
Mahinder singh kay pee टिकट कटने के बाद महिन्द्र सिंह केपी ने कांग्रेस के साथ बगावत करने का फैसला कर लिया है। कल इस मुहिम की शुरुआत करते हुए केपी ने फोलड़ीवाल में अपने समर्थकों के साथ मीटिंग दौरान की। केपी कांग्रेस हाईकमान के साथ साथ जालन्धर के तीन विधायकों का से खासे नाराज हैं। जिनमें जालन्धर वैस्ट, कैंट तथा आदमपुर शामिल है। केपी ने इन तीनों हल्कों में अपने समर्थकों को एक्टिव रहने के लिए संकेत दे दिए हैं। केपी सबसे ज्यादा वैस्ट हल्के से टिकट लेने के चाहवान थे मगर सिटिंग एमएलए सुशील रिंकू ने चन्नी के साथ नजदीकियां बढ़ाकर केपी का खेल बिगाड़ दिया। इसके बाद केपी ने कैंट हल्के में नजर रखी मगर यहां भी परगट ने सियासी चाल से केपी को मात दे दी।








मगर आदमपुर हल्के में केपी ने अपने पांव पर खुद कुलहाड़ी मारते हुए सुखविंदर सिंह कोटली को कांग्रेस में शामिल करवाया और कांग्रेस ने कोटली को पर ही आखिरी दांव खेलते हुए टिकट दी। मगर इन तीनों हल्कों में केपी की जलालत होने के बाद केपी समर्थकों में भारी रोष व्याप्त है। माना जा रहा है कि केपी जालन्धर के इन तीनों हल्कों में कांग्रेस का खेल बिगाड़ सकते हैं जिससे विपक्षी दलों को फायदा हो सकता है।