Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

जालन्धर – मकसूदां मंडी में ट्रांस्पोर्टरों का फूटा गुस्सा, गेट बंद कर लगाया धरना, ठेकेदार सहित पंजाब सरकार खिलाफ नारेबाजी

अनिल वर्मा -जालंधर मकसूदां मंडी में पार्किंग की पर्ची को लेकर चल रहे  विवाद ने आज विकराल रूप धारण कर लिया है यहां ट्रांस्पोर्टरों ने मंडी के दोनो एंट्री गेट पर धरना लगा कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरु कर दी है। आरोप है कि मंडी के अंदर वाहनों की पार्किंग के लिए कोई जगह नहीं है और ठेकेदार वाहन के हर चक्कर के बदले मोटी फीस वसूल रहा है जबकि पार्किग पर्ची 12 घंटे के लिए मान्य है यही नहीं ठेकेदार सपोर्टरों का कहना है कि मंडी में एंट्री के लिए जो सरकार ने रेट तय किए हैं उनसे 3 से लेकर 4 गुणा रेट वसूले जा रहे हैं। पूछने पर ठेकेदार के लोग वाहन चालकों के साथ मारपीट करते हैं।सरकार की मंडी बोर्ड ठेकेदार के माध्यम से गुंडा टैक्स वसूल रहा है।








मकसूदां सब्जी मंडी में धरने पर बैठे ट्रांसपोर्टर।

धरने पर बैठे ट्रांसपोर्टरों का कहना है कि मंडी में आने वाले छोटे वाहनों की 40-50 की जगह 100 रुपए बड़े वाहनों की 100-125 की जगह 300 रुपए की पर्ची काटी जा रही है। ट्रांसपोर्टरों ने आरोप लगाया कि गेट पर वाहनों की एंट्री फीस को लेकर कोई बोर्ड या रेट लिस्ट नहीं लगी हुई है। मनमर्जी से वसूली की जा रही है। उनका कहना है कि गाड़ी को मंडी में माल मिले या न मिले, लेकिन पहले पैसे देकर एंट्री करनी पड़ती है।