Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

जालन्धर- सेठ हुकम चंद स्कूल में 40 रुपये कीमत वाली किताबे बेची जा रही थी 350 रुपये में, शिकायत पर मौके पर पहुंचे विधायक रमन अरोड़ा और जीएसटी की टीम और फिर..

रोजाना पोस्ट








Seth Hukam Chand School Jalandhar पंजाब में प्राईवेट स्कूलों द्वारा मचाई जा रही लूट के खिलाफ कई सालों से अभिभावकों ने मोर्चा खोला था जिसमें सरकारों को भी स्कूल प्रबंधकों के खिलाफ कारवाई न करने के लिई खूब कोसा जाता था मगर अब सरकार खुद प्राईवेट स्कूलों की मनमानियों के खिलाफ अभिभावकों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी हो गई है। बीते दिनों पंजाब सरकार की ओर से जारी आदेश अनुसार किसी भी प्राईवेट स्कूल को फीसों में बढौतरी करने पर सख्ती से रोक लगाई गई थी

मगर प्राईवेट स्कूलों के प्रबंधकों द्वारा सरकार द्वारा जारी इस आदेश के खिलाफ अपनी मनमानियां जारी रखने का ऐलान किया था। आज सोढल क्षेत्र में स्थित सेठ हुकम चंद स्कूल मे उस वक्त अफरा तफरी मच गई जब सैंट्रल हल्के से विधायक रमन अरोड़ा ने खुद मौके पर पहुंच कर स्कूलल प्रशासन की ओर से छात्रों के मनमानें दामों पर किताबें बेचते हुए रंगेहाथों काबू किया। रमन अरोड़ा ने मौके पर जीएसटी विभाग के अधिकारियों को बुलाया और स्कूल प्रशासन के खिलाफ सख्त कारवाई करने के लिए कहा। मौके पर पहुंची जीएसटी विभाग की टीम ने जब किताबों की कीमत का आंकलन किया तो किताबों पर छपी कीमत दस गुणा पाई गई।

 

टीम ने कहा कि छठी कक्षा की किताब का प्रिंट रेट 350 है जबकि इसकी बाजारी कीमत 40 रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। यह सारा खेल स्कूल प्रशासन की मिलीभगत से खेला जा रहा है। मौके पर थाना 3 और 2 की पुलिस भी पहुंच गई और स्टाक को अपने कब्जे में ले लिया गया है। खबर लिखे जाने तक अभी स्कूल में जीएसटी विभाग की टीम, विधायक रमन अरोड़ा तथा भारी पुलिस फोर्स तैनात थी।