Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

नए कमिशनर अभिजीत कपलिश के लिए बिल्डिंग विभाग का तलिस्म तोड़ना होगा बड़ी चुनौती, 1200 शिकायतें पैडिंग, हररोज 100 नई अवैध इमारते, लाखों का रैवन्यू लॉस

अनिल वर्मा-नगर निगम में नए कमिशनर अभिजीत कपलिश ने चार्ज संभाल लिया है इससे पहले पूर्व कमिशनर दविंदर सिंह बिल्डिंग ब्रांच के नैक्सिस को तोड़ने में बुरी तरह से विफल साबित हुए थे उनके लाख आदेशों के बाद भी एमटीपी, एटीपी तथा बिल्डिंग इंस्पैक्टर अपनी ड्यूटी सही ढंग से नहीं कर रहे थे और शहर में अवैध निर्माणों की 1200 से ज्यादा शिकायतें पैंडिंग है








इसके अलावा हररोज होने वाले अवैध निर्माणों की 50 से ज्यादा शिकायतें पीजीआरएस पोर्टल,निगम के शिकायत सैल, डाक सैल सहित लोकल बॉडी विभाग तक पहुंचती है जिसमें ज्यादातर एटीपी तथा बिल्डिंग इंस्पैक्टरों की अवैध निर्माणों में मिलीभगत की होती है इसी का प्रैशर ज्यादा बढ़ने पर पूर्व कमिशनर दविंदर सिंह खुद फील्ड में उतरे थे और कई अवैध निर्माणों की शिकायतों को सही पाया गया जिसके बाद कई जगह सीलिंग तथा डैमोलेशन की कारवाई की गई। अब उनका तबादला हो गया है उनकी जगह नए कमिशनर अभिजीत कपलिश को मिली है।

नए कमिशनर के सामने सबसे बड़ी चुनौती बिल्डिंग विभाग के नैक्सिस को तोड़ना होगा जिसकी वजह से शहर मेें लगातार अवैध निर्माण होने से जहां सरकार की किरकिरी हो रही है वही दिन ब दिन लाखों करोड़ों का रैवन्यू भी लॉस हो रहा है। निगम दफ्तर से चंद कदमों की दूरी पर प्लाजा होटल को बिल्डिंग ब्रांच के अधिकारियों की मिलीभगत से शापिंग कांप्लैक्स में बदला जा रहा है यहां 70 से ज्यादा अवैध दुकानों का निर्माण चल रहा है इसकी शिकायत निगम कमिशनर जालन्धर से लेकर सीएमओ दफ्तर तक चल रही है मगर अभी तक कोई कारवाई नहीं हुई। इससे आगे नाज सिनेमा की जगह बने शापिंग कांपलैक्स में कोराना महामारी दौरान ग्राऊंड, पहली तथा दूसरी मंजिल पर 7 हजार स्केयर फुट का नया अवैध निर्माण हुआ मगर अभी तक इस पर कारवाई की फाईल कमिशनर स्तर पर पैडिंग है।

बीते दो सालों दौरान बिल्डिंग विभाग की ओर से सील तथा डी-सील की गई अवैध इमारतों पर दोबारा कोई कारवाई नहीं की गई जिसके चलते शहर में ऐसी 2 हजार से ज्यादा इमारतें नगर निगम को रगड़ा लगाकर सरेआम कारोबारी इस्तेमाल की जा रही है। फील्ड में काम करने वाले बिल्डिंग इंस्पैकटर तथा एटीपी अक्सर दफ्तरों में बैठे रहते है और आर्किटैक्ट तथा एजैंटों के काम करने में व्यस्त रहते है।