Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

डेरा प्रमुख राम रहीम की पेरोल बदलेगी मालवा की 35 सीटों का गणित

रोज़ाना पोस्ट 








Ream Rahim punjab election 2022: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दी गई 21 दिन की पेरोल से पंजाब में नया राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया है। पंजाब में मतदान से ठीक दो हफ्ते पहले उन्हें पेरोल  दिया जाना इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि डेरा सच्चा सौदा का मालवा की 35 से ज्यादा सीटों पर सीधा प्रभाव है। वहीं डेरा मुखी को पेरोल देने पर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के अध्यक्ष हरजिंदर सिंह धामी ने कहा है कि यह फैसला पंजाब की भाईचारक सांझ को नुकसान पहुंचाने वाला है।

 

दरअसल, धामी का यह बयान इस संदर्भ में आया है कि पंजाब में एक ओर श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम उनसे पूछताछ करने के लिए रोहतक की जेल में भी गई और संतुष्ट न होने पर उन्हें पूछताछ के लिए पंजाब में लाने के लिए अदालत का दरवाजा खटखटा रही है। 2015 में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटना पंजाब में पिछले विधानसभा चुनाव से ही बड़ा मुद्दा बनी हुई है और इसके लिए डेरा प्रेमियों पर शक की सुई घूम रही है। इससे पहले 2007 में डेरा सच्चा सौदा मुखी द्वारा गुरु गोबिंद सिंह जैसी पोशाक पहनना डेरा प्रेमियों और सिख संगठनों के बीच विवाद का कारण बना।

 

Dera chief Ram Rahim payroll