Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

हिमाचल : अवैध पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट,18 महिलाओं समेत कुल 20 मजदूर झुलसे, 6 महिलाओं की मौके पर ही मौत

रोज़ाना पोस्ट 








blast in himachal हिमाचल प्रदेश के ऊना शहर में मंगलवार सुबह एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट हो गया। टाहलीवाल औद्योगिक क्षेत्र के बाथू में हादसा सुबह करीब 10:15 बजे हुआ। हादसे में 18 महिलाओं समेत कुल 20 मजदूर आग की चपेट में आ गए। इनमें से 6 महिलाओं की जिंदा ही बुरी तरह जल जाने से मौके पर ही मौत हो गई। घायलों में 80% तक जल चुकीं 10 अन्य महिलाओं की हालत भी बेहद गंभीर है। इन्हें PGI चंडीगढ़ रेफर किया गया है। बाकी का इलाज ऊना के अस्पताल में ही चल रहा है।

उधर, प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश में हुए फैक्ट्री हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50,000 रुपए दिए जाएंगे। मृतकों और घायलों में कुछ मजदूर यूपी के, कुछ बिहार और एक पंजाब से है।

आग बुझाने के बाद शवों पर डाले गए कपड़े।

धर्म कांटे की आड़ में चल रही थी फैक्टरी
ऊना के टाहलीवाल औद्योगिक क्षेत्र में पहले धर्म कांटा बनाने का काम चल रहा था। बीते करीब 7-8 महीने से इस जगह पर अवैध रूप से पटाखे बनाने का काम चल रहा था। इस दौरान सुरक्षा मानकों का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा जा रहा था। मंगलवार सुबह हुए हादसे के समय 25 से ज्यादा कर्मचारी फैक्टरी में काम कर रहे थे। अचानक धमाके के बाद आग लगने पर कुछ लोग तो बाहर निकलने में कामयाब रहे, लेकिन 20 लोग आग की चपेट में आ गए। इनमें से छह महिलाएं तेजी से फैली आग में बुरी तरह घिर गई और वे सभी जिंदा ही पूरी तरह जल गईं।

एक घंटे तक जलती रही महिलाएं
मृतक महिलाएं करीब एक घंटे तक आग में जलती रहीं, और उन्हें किसी ने नहीं बचाया। करीब 11:30 बजे फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। वहीं, आग की चपेट में आकर घायल होने वालों में 12 महिलाएं और दो हेल्पर का काम करने वाले पुरुष हैं। इनमें 10 महिलाओं की हालत गंभीर है।