Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

Aggarwal Hospital की बड़ी मुश्किलें 5 घंटे कम्पनी बाग चौंक में धरने के बाद टाऊन प्लानिंग विभाग ने अग्रवाल अस्पताल को जारी किया यह Notice

जालन्धर /अनिल वर्मा








Aggarwal hospital jalandhar dispute जेपी नगर में स्थित अग्रवाल अस्पताल को सील करने  का मामला काफी तूल पक़ड़ चुका है। कई शिकायतों के बावजूद जब नगर निगम के टाऊन प्लानिंग विभाग ने अग्रवाल अस्पताल के खिलाफ कोई कानूनी कारवाई नहीं तो शिकायतकर्ता  ने आज निगम दफ्तर के बाहर तथा कम्पनी बाग चौंक में 5 घंटे धरना लगाया और यहां आने जाने वाले लोगों के लिए रास्ते लगभग बंद कर दिए गए। इस दौरान ट्रैफिक पुलिस की ओर से कड़ी मुश्कत करके ट्रैफिक को सुचारु किया गया। मगर पांच घंटे चले इस धरने के दौरान निगम दफ्तर के किसी भी बड़े अधिकारी ने मौके पर आकर कोई आश्वासन नहीं दिया। हालांकि शिकायतकर्ता अभी बक्शी का आरोप है कि “टाऊन प्लानिंग विभाग के एमटीपी, एटीपी तथा बिल्डंग इंस्पैक्टर मेयर जगदीश राजा के दबाव में कोई कारवाई नहीं कर रहे क्योंकि मेयर साहब इस अस्पताल में अपना मुफ्त इलाज करवाते हैं।”

बता दें कि इससे पहले भी शिकायतकर्ता अभी बक्शी ने अग्रवाल अस्पताल के बाहर भी धरना लगाकर प्रशासन पर कारवाई का दबाव बनाया था मगर कोई कारवाई नहीं हुई इसके बाद पंजाब प्रैस क्लब में भी एक प्रैसवार्ता दौरान शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि इस अस्पताल में उसके पिता के इलाज में लापरवाही के कारण मौत हुई लिहाजा यह अस्पताल के डाक्टरों के खिलाफ इलाज में कौताही बरतने के चलते कड़ी कारवाई की मांग की गई थी अब इस मामले में सिविल सर्जन दफ्तर की ओर से जांच कमेटी का गठन किया गया है जिसका नतीजा अभी आना बाकी है।

उधर अब शिकायतकर्ता ने कहा कि वह तब तक लगातार इसी तरह चौक में धरना लगाएगा जब तक रिहायशी इलाके में बने अग्रवाल अस्पताल को सील नहीं किया जाता। इसके लिए जल्द ही माननीय पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। इस मामले में अग्रवाल अस्पताल से संपर्क नहीं हो सका


अग्रवाल अस्पताल को आज नोटिस जारी कर दिया गया है तथा 15 दिनों में खाली करने का समय दिया गया है तांकि वहां से सारी मेडिकल मशीनरी हटा ली जाए और जरूरी सामान बाहर निकाल लिया जाए ताकि 15 दिनों के बाद बिल्डिंग को सील करने में कोई मुश्किल न हो। 

मेहरबान सिंह (एमटीपी)

टाउन प्लानिंग विभाग, जालन्धर