Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

जाखड़ के ब्यान के बाद चुनावी प्रचार छोड़ माता वैष्णो देवी दरबार पहुंचे सिद्धू , पढ़े वजह

रोज़ाना पोस्ट 








दिग्गज नेताओं के क्रियाकलापों से पंजाब कांग्रेस में खलबली मची हुई है। बुधवार सुबह पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ के सीएम बनने को 42 विधायकों के समर्थन के दावे के बाद अब नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर बड़ी खबर आई है। विधानसभा हलका अमृतसर पूर्वी से कांग्रेस प्रत्याशी नवजोत सिंह सिद्धू बुधवार को अचानक चुनाव प्रचार छोड़ माता वैष्णो देवी के दर्शन करने रवाना हो गए। इसके बाद राजनीतिक चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है कि कहीं कांग्रेस सीएम फेस की घोषणा तो नहीं करने वाली है। माता वैष्णो देवी जाने को लेकर सिद्धू ने खुद ट्विटर पर भी पोस्ट भी डाली है। उन्होंने माता वैष्णो देवी दरबार जाने के बारे में लिखते हुए माता वैष्णो देवी से प्रार्थना की कि वे दुष्टों का विनाश करें, पंजाब का कल्याण करें और धर्म की स्थापना करें। 

राजनीति के माहिर इसे पंजाब कांग्रेस कुर्सी को लेकर मचे घमासान के नतीजे के रूप में देख रहे हैं। बता दें कि कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री चेहरे के लिए आप की तर्ज पर आनलाइन सर्वे करवाया जा रहा है। कांग्रेस कभी भी पंजाब में सीएम फेस की घोषणा कर सकती है। 

सुबह पूर्व पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ ने यह कहकर राजनीतिक खलबली मचा दी कि पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के त्याग पत्र के बाद उन्हें 42 विधायकों का समर्थन हासिल था लेकिन सीएम बने 2 विधायकों के समर्थन वाले चरणजीत सिंह चन्नी। सुखजिंदर सिंह रंधावा को 16 और नवजोत सिंह सिद्धू को मात्र 6 विधायकों ने अपना समर्थन दिया था। 

दस निर्धारित कार्यक्रम छोड़कर माता वैष्णो देवी गए सिद्धू

सिद्धू के बुधवार के शेड्यूल के मुताबिक हलके की विभिन्न वार्डों में दस के लगभग कार्यक्रम निर्धारित थे। सुबह डीसीसी की पूर्व प्रधान व पार्षद जतिंदर सोनिया के निवास पर रखे गए पहले ही कार्यक्रम में वह नहीं पहुंचे। पता करने पर जानकारी मिली कि सिद्धू मां वैष्णों देवी के दर्शनों को चले गए हैं। उनके अचानक यूं हलके से जाने से कई तरह की चर्चाएं की जा रही हैं। कांग्रेस की पूर्व शहरी प्रधान व पार्षद जतिंदर सोनिया बताया कि उनके घर पर सिद्धू के आने की जानकारी मिली थी। वैसे मंगलवार को कार्यक्रम था, जिसमें सिद्धू ने आना था, पर वह नहीं आए। बुधवार को उनके आने की उम्मीद थी, पर कोई सूचना नही दी थी।