Latest news
NIT Sexual Harassment Case में प्रौफेसर डिसमिस : MBA की छात्रा ने कहा पेपर में पास करने की एवज में क... बाबा बलबीर सिंह को जत्थेदार घोषित करने वाला निहंग सिंह निकला सरकारी कर्मचारी, जल्द श्री अकाल तख्त पर... जालन्धऱ- स्कूल कीप्रार्थनासभा में गिरा छात्र, अस्पताल में हुई मौत NIA की बड़ी कार्रवाई, अमृतपाल सिंह से संबंधित 1.34 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त ! पंजाब रोडवेज कर्मियों को मिला दीवाली तोहफा हड़ताल खत्म, सरकार ने मानी यह मांग 30 हजार रिश्वत लेते वन विभाग का बड़ा अधिकारी काबू:पेड़ों की कटाई के बदले ठेकेदार से मांगा 35 हजार कमी... Punjab Police के निलंबित AIG मालविंदर की बढ़ी मुश्किले; जबरन वसूली, धोखाधड़ी और रिश्वत लेने का मामला ... जालंधर की 2 लड़कियों ने करवाई आपस में शादी : सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट पहुंची; खरड़ के गुरुद्वारा साहि... जांच में शामिल हुए नशा तस्करी केस में बर्खास्त एआईजी राजजीत, वकीलों संग पहुंचे एसटीएफ दफ्तर पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, दिवंगत शख्सियतों को दी गई श्रद्धांजलि, राज्यपाल ने कहा..

कटारूचक्क को बड़ी राहत, शिकायतकर्ता ने एससी कमिशनर लगाई गुहार, पढ़े पूरी खबर

पंजाब के कैबिनेट मिनिस्टर लाल चंद कटारूचक्क के अश्लील वीडियो मामले में नया मोड़ आ गया है। राज्यपाल व एससी कमिशन के आदेशों पर पंजाब पुलिस की तरफ से बनाई गई जांच कमेटी के सामने शिकायतकर्ता ने कार्रवाई से ही इनकार कर दिया है। जिसके बाद जांच कमेटी प्रमुख डीआईजी बॉर्डर रेंज नरेंद्र भार्गव ने जांच रिपोर्ट राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग को भेज दी है।मिली जानकारी के अनुसार जांच के दौरान यह भी बात सामने आई कि जिस समय पीड़ित के साथ अश्लील वीडियो कांड हुआ और उसे गालियां निकाली गईं, तब वह नाबालिग ही नहीं था। जांच कमेटी ने पीड़ित के स्कूल को उम्र जांच के लिए लिखा था। स्कूल रिकॉर्ड के अनुसार उसकी जन्मतिथि 3 मई 1993 है। यह घटनाक्रम 2013 में हुआ था। जिससे साफ होता है कि पीड़ित की उम्र घटना क्रम के वक्त तकरीबन 20 साल थी। यह भी साफ हुआ कि ‌वह नौंवी कक्षा में पढ़ता था और उसके बाद उसने स्कूल छोड़ दिया था।








कटारूचक्क के लिए राहत
शिकायतकर्ता के पीछे हट जाने से मंत्री लाल चंद कटारूचक्क के लिए एक बड़ी राहत है। इस घटनाक्रम के बाद मंत्री कटारूचक्क लगातार विपक्ष के निशाने पर थे। विपक्ष उनके इस्तीफे की मांग कर रहा था, लेकिन सीएम कार्यालय की तरफ से कोई भी टिप्पणी इस पर नहीं की गई। एससी कमिशन के कहने पर जांच कमेटी बनाई गई, जिसकी रिपोर्ट भी अब जांच अधिकारी ने भेज दी है।

पीड़ित एससी कमिशन को अपनी शिकायत सौंपते हुए।

6 पॉइंट्स में जाने पूरा मामला…

1. कांग्रेस के MLA सुखपाल सिंह खैहरा ने पंजाब के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित से मिलकर एक शिकायत और वीडियो सौंपा। खैहरा का आरोप था कि यह वीडियो पंजाब सरकार के मंत्री लालचंद कटारूचक्क का है। वीडियो में कटारूचक्क एक नाबालिग युवक से अप्राकृतिक संबंध बनाते दिख रहे हैं। आरोपों के बाद कटारूचक्क ने खैहरा पर मानहानि का केस करने का दावा किया।

2. पंजाब गवर्नर ने खैहरा की शिकायत की जांच पंजाब DGP की जगह चंडीगढ़ पुलिस के DGP को सौंपी। चंडीगढ़ के DGP ने वीडियो को फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया। 4 दिन पहले वीडियो की फोरेंसिक जांच रिपोर्ट पंजाब गवर्नर के पास पहुंच गई। रिपोर्ट में कहा गया कि वीडियो में दिख रहे किरदार सही हैं और वीडियो के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हुई।

3. इसी बीच पीड़ित युवक, जिसके साथ कटारूचक्क का वीडियो बताया जा रहा था, भी मीडिया के सामने आ गया। उसने अपने साथ हुई आपबीती सुनाते हुए बताया कि कैसे नौकरी दिलाने के बहाने उसका शोषण किया गया।

4. पीड़ित अपनी शिकायत लेकर SC/ST कमीशन के पास पहुंचा। कमीशन ने बिना देरी किए शुक्रवार को ही पंजाब के चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी को नोटिस जारी कर दिए। इस नोटिस में दोनों से 3 वर्किंग डे में लिखित जवाब देने को कहा गया।

5. बीते शनिवार को पंजाब गवर्नर ने भी वीडियो की फोरेंसिक जांच रिपोर्ट पंजाब के CM भगवंत मान को भेज दी। गवर्नर की ओर से मुख्यमंत्री को इस मामले में आगे की कार्रवाई करने के लिए कहा गया।

6. पंजाब गवर्नर और SC/ST कमीशन का दबाव बढ़ता देखकर पंजाब सरकार ने सोमवार को इस केस से जुड़ी शिकायत की जांच के लिए पंजाब पुलिस की तीन मेंबरी SIT बनाई। SIT का इंचार्ज पंजाब पुलिस की बॉर्डर रेंज के DIG नरेंद्र भार्गव को बनाया गया। गुरदासपुर के SSP दयामा हरीश कुमार और पठानकोट के SSP हरकमल प्रीत सिंह इसके सदस्य हैं।