पंजाब में जहरीली शराब बेचने वालों को मिलगी सजा-ए-मौत, 20 लाख का जुर्माना

रोज़ाना पोस्ट 

बीते साल पंजाब के अमृतसर, तरनतारन व गुरदासपुर जिले में जहरीली शराब से हुई 100 से ज्यादा मौतों के बाद सरकार ने कड़ा कदम उठाया है. कैबिनेट (Cabinet) में लिए गए एक निर्णय के मुताबिक यदि कोई भी व्यक्ति नशीली दवाएं डालकर नकली शराब बेचता है और उसे पीने से किसी की मौत हो जाती है, ऐसे दोषियों को मृत्युदंड, आजीवन कारावास (Death penalty, life imprisonment) और 20 लाख रुपए तक का जुर्माना हो सकता है.

 

हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को मिलेंगी नौकरियां
सरकार ने वित्तीय संकट से गुजर रहे पीड़ित परिवारों को बड़ी राहत देते हुए अमृतसर रेल हादसे के 34 मृतकों के पारिवारिक सदस्यों व वारिसों पर विशेष केस के तौर पर विचार करते हुए नियमों में ढील देते हुए उनकी योग्यता के मुताबिक अलग-अलग विभागों व संस्थाओं में नौकरियां देने की मंजूरी भी दे दी है. गौरतलब है कि यह रेल हादसा 19 अक्तूबर, 2018 को अमृतसर में जोढ़ा फाटक पर दशहरे वाले दिन घटा था जिसमें 58 व्यक्तियों की मौत हो गई थी जबकि 71 व्यक्ति जख्मी हो गए थे.ये पारिवारिक सदस्य अनुकंपा के आधार पर नौकरी के लिए राज्य की मौजूदा नीति और इससे सम्बन्धित 21 नवंबर, 2002 की हिदायतों के दायरे में नहीं आते थे.