नगर निगम का सबसे बड़ा ‘कामचोर’ बिल्डिंग विभाग, 1000 के करीब पहुंचा शिकायतों का आंकड़ा

जालन्धर /अनिल वर्मा

कोविड-19 के चलते चाहे पंजाब सरकार द्वारा तमाम विभागों में काम सुचारू कर दिया गया है मगर जालन्धर नगर निगम के बिल्डिंग विभाग का काम पटरी पर आने का नाम नहीं ले रहा। जिसके लिए इस विभाग के कर्मचारियों की कामचोरी को ही बड़ा कारण माना जा रहा है। नगर निगम द्वारा प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पिछले तीन महीनों दौरान बिल्डिंग विभाग में शिकायतों का आंकड़ा तेजी से बढ़ता जा रहा है मगर किसी भी अघिकारी द्वारा शिकायतों का निपटारा नहीं किया जा रहा। कई बार इस मामले में ज्वाईंट कमिशनर ने फटकार भी लगाई है।

बिल्डिंग विभाग की 970,बीएंडआर 96, एएचओ 35, ओएंडएम 32, तहबाजारी 11, लाईसैंस 6 तथा वर्कशाप की 3 शिकायतें पैंडिंग हैं। सुपरीडैंट भुंिपंदर सिंह का कहना है कि बिल्डिंग विभाग को कई बार शिकायतों का निपटारा करने के लिए पत्र लिखा गया मगर बिल्डिंग इंस्पैक्टर इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे जिस कारण एक तो नगर निगम के राजस्व का नुक्सान हो रहा है दूसरी ओर लोग अवैध निर्माण तथा कालोनियां धड़ाधड़ काट रहे हैं। इंस्पैक्टर किसी भी अवैध निर्माणों के खिलाफ कारवाई करने के लिए फील्ड में मेहनत नहीं कर रहे।