श्री हरिमंदिर साहिब को विदेशी फंड लेने की अनुमति देने का फैसला एक अग्रणी कदम है:बोबीन शर्मा

अनिल वर्मा 

पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच जिला जालंधर के अध्यक्ष बोबीन शर्मा ने कहा की स्वर्ण मंदिर को विदेशी फंड प्राप्त करने की अनुमति देने का फैसला एक अग्रणी कदम है। इस फैसले से सभी पंजाबियों में बेहद खुशी है। श्री हरिमंदिर साहिब को विदेशी फंड लेने की मंजूरी दिए जाने पर बोबीन शर्मा ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी,केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह जी और गृहमंत्री अमित शाह जी व केंद्र सरकार का आभार जताया है और शर्मा ने कहा की इससे विदेशों में बैठे लोग अब सीधे व प्रत्यक्ष रूप से अपनी आय से निकाला गया दान फ.सी.आर.ए.पंजीकरण के तहत भेज सकेंगे।

बोबीन शर्मा ने कहा की सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब श्री दरबार साहिब पंजाब एसोसिएशन को विदेशी योगदान(विनियमन) अधिनियम 2010 के तहत पंजीकरण की मंजूरी दी गई है। एसोसिएशन का एफ.सी.आर.ए.पंजीकरण 5 साल के लिए वैध होगा।केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा अनुमति मिलने के बाद अब यह संस्था एफ.सी.आर.ए. 2010 के प्रावधानों का अनुपालन करते हुए बताए गए उद्देश्यों को पूरा करने के लिए विदेशों से भी अंशदान हासिल कर सकतें है। बोबीन शर्मा ने कहा की एस.जी.पी. सी. ने केंद्र के सामने कई बार इस मामले को उठाया था और सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब श्री दरबार साहिब पंजाब एसोसिएशन के एफ.सी.आर.ए.पंजीकरण के लिए आवेदन किया था जिसे केंद्र सरकार द्वारा मंजूर कर लिया गया है।