Latest news

चीन सीमा के पास लापता वायुसेना के विमान में पटियाला का लेफ्टिनेंट भी शामिल



पटियाला. अरुणाचल में चीन सीमा के पास के इलाके से लापता हुए वायुसेना के एंटोनी एएन-32 विमान में समाना के फ्लाइंग लेफ्टिनेंट मोहित गर्ग (27) भी हैं। सोमवार को एयरफोर्स हेड क्वार्टर से विमान लापता होने की सूचना मिलने पर मोहित के पिता सुरिंदर कुमार और चाचा ऋषि पाल असम के लिए रवाना हो गए हैं।

फ्लाइंग लेफ्टिनेंट मोहित गर्ग के बड़े भाई अश्विनी गर्ग ने बताया कि बारहवीं के बाद मोहित का सिलेक्शन एनडीए में हो गया था। अभी वह वायु सेना में फ्लाइंग लेफ्टिनेंट है। मोहित की शादी पिछले साल जालंधर की आस्था से हुई थी, जो अब असम में ही यूके बैंक में नौकरी कर रही हैं। सोमवार दोपहर भारतीय वायु सेना के दफ्तर से फोन आया कि मोहित गर्ग के विमान ने जोरहाट से उड़ान भरी थी लेकिन विमान रास्ते में ही लापता हो गया।

स्पाई एयरक्राफ्ट और इसरो के सेटेलाइट से भी तलाश

वायुसेना के ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट एएन-32 की तलाश में मंगलवार को नेवी के स्पाई एयरक्राफ्ट और इसरो के सेटेलाइट भी जुट गए। तलाशी अभियान में सुखोई-30 और सी-130 विमान भेजे हैं। एएन-32 सैन्य साजो-सामान लेकर जाने वाला दो इंजन का परिवहन विमान है। वायुसेना इसे 1984 से इस्तेमाल कर रही है। एएन-32 को वायुसेना कई अहम अभियानों में इस्तेमाल कर चुकी है। अरुणाचल के पास से सोमवार काे लापता वायु सेना के एएन-32 विमान का 48 घंटे बाद भी पता नहीं चला है। विमान में एक विंग कमांडर, 4 फ्लाइंग लेफ्टिनेंट, स्क्वाड्रन लीडर और 7 एयर मैन शामिल हैं। 

एएन-32 के पुराने हादसे

एएन-32 विमान का सबसे भयानक हादसा 2016 में हुआ। चेन्नई से उड़ान भरने वाला वह विमान प. बंगाल की खाड़ी के ऊपर से लापता हो गया था। इसमें 29 लोग थे। 2009 में अरुणाचल में भी एएन-32 विमान गायब हो गया। उसमें 13 लोग थे। 1999 में दिल्ली में एएन-32 विमान हादसे में 21 की मौत हो गई थी।

Source link