NGT करेगा जालंधर में कूड़े की निगरानी , निगम प्रशासन फेल

कूड़ा प्रबंधन को लेकर नगर निगम और नगर कौंसिलों का सिस्टम फेल होने के बाद नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने इसकी निगरानी खुद करने का फैसला किया है। शहरों व कस्बों में बिना मंजूरी लग रहे कूड़े के ढेरों को साफ करवाने के लिए लोगों से आनलाइन शिकायतें ली जाएंगी। इसके लिए टोल फ्री नंबर जारी किया जाएगा। इन शिकायतों की मानिटरिंग पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीपीसीबी) करेगा।

Municipal corporation start lifting of garbage from city

एनजीटी की मानिटरिंग कमेटी के चेयरमैन रिटायर्ड जस्टिस जसबीर सिंह और मेंबर संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने पीपीसीबी को पूरे राज्य के लिए टोल फ्री नंबर जारी करने के निर्देश दिए हैं। बोर्ड इसके लिए जोन स्तर पर नोडल अफसर तैनात करेगा। सफाई व्यवस्था को लेकर जो भी शिकायतें आएंगी, उसके निपटारे की रिपोर्ट एनजीटी को देनी होगी। नगर निगम व नगर कौंसिलों को इन शिकायतों का निपटारा तय समय में करना होगा। कमेटी ने नगर निगम जालंधर को निर्देश दिया है कि शहर में अस्थाई रूप से बने कूड़े के डंपों पर 24 घंटे से अधिक समय तक कूड़ा नहीं पड़ा रहना चाहिए।