MLA परगट सिंह कर रहे मेरे प्लाट पर कब्जा, पुलिस नहीं कर रही कोई कारवाई-अरविंद

  • मैने कोई कब्जा नहीं किया, मेरे पास सारे दस्तावेज,निशानदेही करवाने के लिए हूं तैयार-परगट सिंह

अनिल वर्मा 

जालन्धर कैंट हल्के के आधीन आती 66 फुट रोड पर 14 मरले प्लाट पर कब्जा करने का मामला एक बार फिर गर्मा गया है। इस प्लाट पर विधायक परगट सिंह की ओर कब्जा करने के आरोप लगाते हुए अरविंद कुमार तथा उनकी पत्नी स्वाति  ने प्रैसवार्ता दौरान कई सनसनीखेस खुलासे किए। अरविंद ने कहा कि उसके पिता हरी कृष्ण ने मिठापुर रोड पर एक 14 मरले 192 वर्ग फुट का प्लाट 1992 में लक्ष्मीचंद पुत्र भोजा राम वासी सेदां गेट जालन्धर से खरीदा था । पिता हरी कृष्ण की मौत 1998 को हुई तथा उनकी मौत के बाद विरासत में उन्हे यह प्लाट मिला था जिसकी विरारत तथा इंतकाल 2018 में मेरे नाम पर दर्ज हैं।


इस प्लाट पर अब कैंट हल्के से कांग्रेसी विधायक परगट सिंह जब्री कब्जा कर रहे हैं। मैने इस प्लाट की चारदीवारी करवाई थी मगर उन्होने उसे गिरा दिया तथा अंदर एक कमरा बना कर बाहर बिजली का मीटर भी लगवा लिया। इस मामले में मैने पुलिस कमिशनर को शिकायत भी दर्ज करवाई मगर परगट सिंह के दबाव के चलते पुलिस ने मेरे खिलाफ ही पर्चा दर्ज कर दिया। मैने इस मामले की जांच करने के लिए पुलिस कमिशनर गुरप्रीत सिंह भुल्लर को एप्लीकेशन दी है मगर अभी तक जांच शुरु नहीं हुई। पुलिस ने मेरे ऊपर काफी दबाव बनाया हुआ है कि आप राजीनामा कर लो। अरविंद ने कहा कि वह सरकारी नौकरी करता है तथा उसे अपनी नौकरी जाने का भी खतरा बना हुआ है। पुलिस दबाववश मुझे इंसाफ नहीं दे रही। मजबूरन मैने अब अदालत का दरवाजा खटखटाया है।

 

उधर विधायक परगट सिंह ने आरोपों को गल्त बताते हुए कहा कि उन्होने किसी के भी प्लाट पर कब्जा नहीं किया बल्कि इसी प्लाट की बीते कुछ साल पहले उनकी माता की झूठी गवाही डाल कर रजिस्ट्री करवाने की कोशिश की गई थी। जिस प्लाट पर चारदीवारी की गई है वह प्लाट मेरा है तथा मैने उस जगह की रजिस्ट्री, सीएलयू, प्राप्टी टैक्स तथा नक्शा भी पास करवाया है। अगर कोई शक है तो वह अपनी रजिस्ट्री में दर्ज खसरा नंबरों की निशानदेही करवाए। वैसे भी अब यह मामला अदालत में लंबित है जो अदालत का फैसला होगा वह हमें मंजूर होगा।