लाहौर बार एसोसिएशन देगी पीड़ित सिख परिवार को मुफ्त कानूनी मदद

 पाकिस्तान के ननकाना साहिब में सिख ग्रंथी की बेटी का धर्म परिवर्तन करवा जबरन मुस्लिम युवक से निकाह करवाने को लेकर पंजाब के सिखों में रोष है। उधर, पाक में  लाहौर बार एसोसिएशन ने पीड़ित परिवार को मुफ्त कानूनी मदद देने का एलान किया है।

एसोसिएशन के मेंबर अाैर भगत सिंह मैमोरियल फाउंडेशन के चेयरमैन एडवोकेट इम्तियाज राशिद कुरैशी ने पाक सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व प्रधान मस्तान सिंह से मुलाकात की और धर्म परिवर्तन की घटना करते कहा कि धर्म परिवर्तन करवा जबरन निकाह करना कानूनन जुर्म है। हम इसके खिलाफ हैं अाैर पीड़ितों की हर संभव मदद करने को तैयार हैं। गाैर हाे कि उक्त ग्रंथी की बेटी को 27 अगस्त को जबरन घर से उठा लिया गया था। 

बाद में युवती का धर्म परिवर्तन करवा मुस्लिम युवक से निकाह करवा दिया गया था। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी वायरल हुअा था। इसके बाद पाकिस्तान और भारत दोनों ने घटना को लेकर कड़ी प्रतिक्रियाएं जारी की हैं। कुरैशी ने बताया कि कोई भी मजहब इस तरह की घटिया हरकत करने की इजाजत नहीं देता, जिन लोगों ने भी ऐसा किया है वह इंसानियत के खिलाफ है। उधर, मामले को लेकर पंजाब के नेताओं ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से कार्रवाई की मांग की है।