आज खुलेगा करतारपुर कॉरिडोर : पहले जत्थे में पाकिस्तान जाएंगे 250 लोग, कोरोना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के साथ RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट जरूरी

पंजाब में चुनावी माहौल के बीच केंद्र सरकार ने गुरु नानक देव के प्रकाश पर्व से दो दिन पहले करतारपुर कॉरिडोर खोलने की घोषणा कर दी। इसी दिन से करतारपुर जाने के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होगा। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को ट्वीट करके इसकी जानकारी दी। गुरु नानक देव का प्रकाश पर्व 19 नवंबर को है। पहले जत्थे में 250 श्रद्धालु पाकिस्तान जाएंगे।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया, “देश 19 नवंबर को गुरु नानक देव का प्रकाश उत्सव मनाने के लिए पूरी तरह तैयार है। मुझे विश्वास है कि प्रधानमंत्री @NarendraModi की सरकार के करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने के फैसले से पूरे देश में आनंद और उत्साह को और बढ़ावा मिलेगा।

कोरोना गाइडलाइंस का पालन जरूरी
तकरीबन 20 महीने बाद खुलने वाले करतारपुर कॉरिडोर के जरिये पाकिस्तान जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए कोरोना गाइडलाइंस का पालन करना अनिवार्य होगा। उन्हें कोरोना वैक्सीनेशन की दोनों डोज लगे होने का सर्टिफिकेट या 72 घंटे से कम समय की RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट देनी होगी। भारत सरकार के कॉरिडोर खोलने के ऐलान के बाद पाकिस्तान सरकार ने इसे लेकर गाइडलाइंस जारी कर दीं।

अब तक की गाइडलाइंस के अनुसार करतारपुर साहिब की वीजा फ्री यात्रा के लिए भारत का कोई भी 13 से 75 साल का नागरिक या अप्रवासी भारतीय आवेदन कर सकता है। इसके लिए ऑनलाइन फॉर्म भरना होगा। पंजीकरण के बाद नोटिफिकेशन प्राप्त होगा और यात्रा के लिए 20 डॉलर यानी तकरीबन 1400 रुपए की फीस देनी होगी। केंद्रीय गृहमंत्री के कॉरिडोर दोबारा खोलने की घोषणा के बाद अभी तक कोई नई गाइडलाइन नहीं आई है।

10 दिन पहले आवेदन

पहले से तय निर्देशों के अनुसार, इस वीजा फ्री यात्रा के लिए श्रद्धालुओं को कम से कम 10 दिन पहले ऑनलाइन आवेदन करना होता है। आवेदन में खुद पर चल रहे पुलिस केस या मुकदमे की जानकारी भी देनी होती है। ऑनलाइन आवेदन के बाद विदेश मंत्रालय फाइल को उस थाने में वैरिफिकेशन के लिए भेजता है, जिस थाना क्षेत्र में आवेदक रहता है। आवेदन में किसी प्रकार की जानकारी छिपाई गई या गलत भरी हो तो पुलिस की संस्तुति पर आवेदन निरस्त कर दिया जाता है। पुलिस वैरिफिकेशन के बाद ही केंद्रीय गृह मंत्रालय से करतारपुर साहिब की यात्रा पर जाने की मंजूरी मिलती है।