Investigation : कागजों में आदेश.. कागजों में पालन, मौके पर सरकार को करोडो़ं का चूना !

जालन्धर अनिल वर्मा

नगर निगम के अधिकारी इन दिनों सरकार को खूब आंखे दिखा रहे हैं तथा जम कर उन लोगों का साथ दे रहे हैं जिन्होनें किसी न किसी तरीके से सरकार के राजस्व को लूटा है। ताजा मामला नगर निगम जालन्धर का है। यहां का बिल्डिंग विभाग भी इन दिनों विजीलैंस विभाग को अपनी जेब में लेकर चल रहा है मनो जैसे विजीलैंस विभाग का खौफ इस विभाग के लिए खत्म हो चुका है। माना जा रहा है कि जालन्धर में बन रही हर अवैध इमारतों को फायदा पहुंचाने के लिए कई अफसरों की टीम काम कर रही है जिनमें सत्तापक्ष के नेता भी शामिल हैं।

यह टीम जहां एक तरफ अवैध इमारतों को खुल कर संरक्षण दे रही है वहीं दूसरी तरफ फाईलों का पेट भरने के लिए कागजी कारवाई की जा रही है जोकि सिर्फ कागजों तक ही सिमट रही है हकीकत में किसी भी अवैध इमारत या अवैध कालोनी के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा। निगम सूत्रों अनुसार बीते 4 महीनों दौरान नगर निगम कमिशनर ने 70 ऐसी फाईलों पर कारवाई करने के लिए कागजी आदेश दिए थे जहां बिना नक्शा पास किए इमारतें तथा कालोनियां बनाई जा रही थी। मगर बिल्डिंग विभाग द्वारा किसी न किसी बहाने से किसी भी पर कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा।

क्यास लगाए जा रहे हैं कि इन सभी फाइलों पर कारवाई करवाने तथा बाद में रुकवाने के लिए सत्तापक्ष के नेताओं ने खूब माल बटोरा है। अब यही लोग अफसरों को अपने चहेतों की अवैध इमारतों तथा अवैध कालोनियों पर कारवाई करने के लिए रोक रहे हैं। इसी के साथ बिल्डिंग विभाग से संबधित कई अहम फाईलें गुम भी करवा दी गई हैं जिनमें सीधेतौर पर सरकार को करोड़ो का चूना लगाया गया है। मौके पर कई जगह बड़ी बड़ी अवैध कालोनियां काटी जा रही है तथा तंग रिहायशी गलियों में तीन तीन मंजिला इमारतें खड़ी करवाई जा रही हैं। इन इमारतों का बिल्डिंग विभाग के पास कोई रिकार्ड नहीं है और न ही यह मंजूरशुदा हैं। यहां तक कि शहर में कुछ ऐेसी इमारतें है जिनको कमिशनर के आदेशों के बाद सील किया गया था मगर मौके पर वहां भी सील तोड़ कर काम किया जा रहा है।

इन इमारतों तथा कालोनियों के खिलाफ जारी हुए थे आदेश

  • मोदी रिसोर्ट के पीछ बन रही अवैध कालोनी
  • मक्कड़ हाउस संतोखपुरा रोड ( फाईल गायब)
  • सेठी इंड्रस्टी के बाहर क्वाटरों की शकल में बनी दुकानें
  • ढिलवां रोड पर अवैध दुकानें
  • यूनिवर्सिटी रोड पर अवैध दुकानें
  • लखनपाल मिल्क बार, गलोब कालोनी
  • उपकार नगर नजदीक प्रताप कोठी
  • स्लेमपुर मुसलमाना अवैध कालोनियां
  • कनाल रोड अवैध फैक्ट्रियां
  • कोलड स्टोर लमां पिंड ओम टाईल के सामने
  • दोआबा मार्किट,बस स्टैंड के नजदीक
  • होटल फगवाड़ा गेट