हाल-ए-सिविल अस्पताल जालंधर: इधर पति लाइन में लग बनवा रहा था पर्ची, उधर पत्नी ने तोड़ दी साँसे

जालंधर सिविल अस्पताल की लापरवाही का एक बहुत बड़ा मामला सामने आया है जानकारी के अनुसार बस्ती शेख निवासी उमेश कुमार नामक व्यक्ति अपनी पत्नी मीरा देवी जो कि 5 महीने से गर्भवती थी उसका इलाज करवाने के लिए वह पहले गुरु नानक मिशन अस्पताल गया लेकिन वह ठीक नहीं हुई जिसके बाद उसे सिविल अस्पताल पहुंचाया गया एमर्जेन्सी वार्ड में बेड पर लेटा कर ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर से इलाज की गुहार लगाई तो स्टाफ ने कहा कि पहले पर्ची बनवा कर लाओ

उसके बाद ही इलाज शुरू होगा पति पर्ची बनवाने के लिए गया तो वहां लंबी लाइन लगी हुई थी कुछ समय लाइन में खड़े होने के बाद जब वापस आया तो उसकी पत्नी की मौत हो चुकी थी उसने सिविल अस्पताल प्रशासन खिलाफ आरोप लगाया कि उन्हें पर्ची बनवाने में उलजाये रखा और पत्नी का इलाज करने की जहमत नहीं उठाई उमेश ने प्रशासन से मांग की है कि ड्यूटी पर तैनात डाक्टरों तथा स्टाफ के खिलाफ जल्द कार्रवाई की जाए ताकि भविष्य में लापरवाही से मरीज की मौत ना हो पाए

वहीं दूसरी तरफ ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर चोपड़ा ने मृतका के पति द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को नकारते हुए कहा कि मरीज के एमरजैंसी वार्ड में पहुंचते ही इलाज शुरू कर दिया गया था उसकी इलाज दौरान ही मौत हुई है