‘‘ भाजी लैंटर पा लया तां चारे पासे फ्लैक्सां लगवाओ, कम्म वड्डा है आपां फस न जाईए..कारपोरेशन नूं मैैं सांब लवांगा ’’

अनिल वर्मा

संतोखपुरा पेट्रोल पंप के समीप एक इमारत के ऊपरी हिस्से में बड़े-बड़े फ्लेक्स बोर्ड की आड़ में नगर निगम के खजाने को रगड़ा लगाया जा रहा है। यह खेल निगम के अफसरों के साथ मिल कर खेला जा रहा है। बीते रविवार रात को इस इमारत के ऊपरे हिस्से में शटरिंग करके लैंटर डाला गया। शिकायत मिलने के बाद बिल्डिंग इंस्पैक्टर किरणदीप मौके पर पहुंचे मगर अभी तक नाजायज कंस्ट्रक्शन का कोई भी नोटिस जारी नहीं किया गया।

मामला दबाने के लिए एक युवा नेता की ओर से भी खूब जुगाड़ लगाया जा रहा है जिनके दबाववश बिल्डिंग विभाग की ओर से इस इमारत को सील करने की बजाए अब जल्द काम खत्म करने के लिए बिल्डिंग मालिक के हाथ पांव जोड़े जा रहे हैं तांकि पोल खुलने के बाद कहीं कारवाई करनी पड़ी तो कमिशनर की फटकार के बाद संस्पैशन की भी तलवार लटक सकती है।

फिलहाल इमारत में नए पड़े लैंटर को छुपाने के लिए चारों तरफ 20-20 फुट के फ्लैक्स बोर्ड लगा दिए गए हैं। वहीं एक शिकायतकर्ता द्वारा इस मामले में कई ऐसी तस्वीरें खींची हैं जोकि इस पूरे मामले की पोल खोल रहीं हैं। शिकायतकर्ता ने कहा कि वह इस मामले में जल्द ही कमिशनर करनेश शर्मा से मिल कर पूरे मामले से पर्दा हटाएगा और निगम को चूना लगाने वालों के खिलाफ भी मोर्चा खोला जाएगा।