गैंगस्टर ने ली कांग्रेस नेता गुरलाल सिंह की हत्या की जिम्मेदारी, फेसबुक पर डाली पोस्ट

 

फरीदकोट में गुरुवार को मैंबर जिला परिषद व जिला अध्यक्ष यूथ कांग्रेस गुरलाल पहलवान की गोलियां मार कर हत्या मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल, इस हत्या की ज़िम्मेदारी गैंगस्टर लारेंस बिशनोई और गोल्डी बराड़ ने ली है।हत्या के बाद इस बारे लारेंस बिशनोई के फ़ेसबुक पेज पर पोस्ट डाल कर दोनों ने ज़िम्मेदारी ली है। इस पोस्ट में कहा गया है कि यह कार्रवाई पूर्व विद्यार्थी यूनियन नेता गुरलाल बराड़ के चंडीगढ़ में इंडस्ट्रियल एरिया में अक्तूबर 2020 में गोलियां मार कर किए गए कत्ल के बदले के तौर पर की गई है

PunjabKesari

हिंदी में लिखी इस पोस्ट में कहा गया है कि हम फ़ेसबुक पर डाल कर कुछ साबित नहीं करना चाहते लेकिन लगता है कि किसी बेकसूर को पुलिस प्रशासन तंग न करे। आज जो फरीदकोट में गुरलाल पहलवान की हत्या हुई, उसकी ज़िम्मेदारी मैं बिशनोई और गोल्डी बरार लेते हैं। गुरलाल को कई बार समझाया कि वह अपने काम से मतलब रखे, हमारी एंटी पार्टी के साथ मिल कर कोई काम हमारे विरुद्ध न करें, लेकिन हर किसी को शब्दों के साथ नहीं समझाया जा सकता और न ही मुझे ज़्यादा बोलना आता है, इसलिए यह कदम उठाना पड़ा।हमारे भाई गुरलाल बरार का कोई लेना देना नहीं था लेकिन सिर्फ़ हवाबाज़ी के लिए उसकी हत्या कर दी गई थी। आज भी सोचता हूं कि गुरलाल बरार ने कभी किसी को कुछ नहीं कहा। जब तक गुरलाल भाई का बदला पूरा नहीं हो जाता, तब तक न ही जीऊंगा और न ही जीने दूंगा।

बता दें कि  गुरलाल पहलवान की मोटरसाइकिल सवारों द्वारा गोलियां मारकर उस समय हत्या कर दी गई जब वह स्थानीय जुबली सिनेमा चौक से थोड़ी ही दूर एक इमीग्रेशन सैंटर में से बाहर आ रहा था। जानकारी के अनुसार 2 मोटरसाइकिलों पर सवार 4 हमलावरों ने इस घटना को अंजाम दिया और फरार हो गए। इस घटना के बाद गुरलाल पहलवान जब घायल हालत में नीचे गिर पड़ा तो मौके पर एकत्रित हुए लोगों द्वारा इसे स्थानीय गुरु गोबिंद सिंह मैडीकल अस्पताल में लाया गया जहां डाक्टरों द्वारा कुछ ही समय बाद इसे मृत घोषित कर दिया गया। इस घटना की खबर सुनते ही पुलिस अधिकारियों की टीम भी मौके पर पहुंची और कई कारतूस व खोल भी बरामद हुए हैं जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि हत्यारों ने गुरलाल पहलवान पर कई गोलियां चलाईं।  वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने राज्य के डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता  को निर्देश दिए हैं कि इस मामले की जांच की जाए और संलिप्त दोषियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए।