कोटाला में प्रशासन की पहली फतेह, अब यहां जमीन खरीदने,बेचने तथा नए निर्माण पर पूर्णता: पाबंदी..पढ़े पूरी खबर

जालन्धर अनिल वर्मा

लंमा पिंड के नजदीक कोटला गांव की सैंटर गर्वनमैंट की जमीन के घोटाले में जिला डिप्टी कमिशनर घनश्याम धौरी के आदेशों पर आज राजस्व विभाग ने पहली फतेह दर्ज करते हुए यहां चेतावनी बोर्ड लगा दिया है  तथा यहां हर तरह के नए निर्माणों को पूर्णत: बंद करवा दिया गया। चेतावनी के बाद भी अगर कोई यहां सरकार की जमीन पर कब्जा करता, बेचता या निर्माण करता पाया जाता है उसके खिलाफ सख्त कारवाई करने के आदेश जारी किए गए हैं। इससे पहले थाना 8 में 5 लोगों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया जा चुका है।

बतां दें कि इस मामले में जिलास्तर के कुछ अधिकारी उच्चाधिकारियों को गुमराह कर रहे थे जिनके खिलाफ शिकायत होने के बाद डीसी घनश्याम धोरी ने खुद इस मामले की जांच एसडीएम से करवाने के आदेश दिए हैं वहीं इस मामले मेें एसआईटी स्पैशन इंवैस्टिगेशन टीम का भी गठन किया गया है जिसमें आईपीएस,पीपीएस तथा राजस्व विभाग के अफसर शामिल हैं जोकि यहां सैंटर गर्वनमैंट की कुल जमीन की पैमाइश करेंगे तथा कितनी जमीन पर कब्जा हुआ और कितनी खाली है उसके बारे में विस्तृत रिपोर्ट डीसी को पेश करेंगे।


यहां घोटाले का पर्दाफाश करने वाले कांग्रेसी पार्षद राजविंदर राजा ने कहा कि इस घोटाले से संबधित उनके पास कई सबूत हैं तथा कई ऐेसे लोगों के नाम सामने आ रहे हैं जोकि राजनीति गलियारे में अपनी अच्छी पहुंच रखते हैं। समय आने पर उन सबके नाम सार्वजनिक किए जाएंगे। फिलहाल जिला प्रशासन को इस मामले सही दिशा में काम करने के लिए वक्त दिया गया है अगर कारवाई तस्सलीबक्श न हुई तो यह मामला माननीय हाईकोर्ट तक पहुंचाया जाएगा। राजा ने कहा कि उनको इस मामले में अभी भी कुछ प्रभावशाली लोग बैकफुट आने पर दबाव डाल रहे हैं मगर वह पीछे नहीं हटेंगे।