जालंधर में किसानों ने DC ऑफिस घेरा; पक्का टेंट लगा कर धरने पर बैठे

जालंधर 

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों को कुचलने का पंजाब में उग्र विरोध शुरू हो गया है। जालंधर में किसानों ने DC ऑफिस घेर लिया है। किसानों ने बाहर पक्का टेंट लगा दिया है। जिसके बाद कचहरी रोड के एक हिस्से को पूरी तरह बंद कर दिया गया है। मौके पर भारी पुलिस बल तैनात है। सुरक्षा के लिहाज से DC ऑफिस के एक गेट को बंद कर दिया गया है। वहीं, आवाजाही के लिए दूसरे गेट पर पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। धरने को लेकर किसान यहां जुटने शुरू हो गए हैं। इसके बाद वो DC को मांग पत्र भी सौंपेंगे।

जालंधर में DC ऑफिस के बाहर धरना लगाकर बैठे किसान।

धरने की अगुवाई कर रहे भारतीय किसान यूनियन(राजेवाल) के प्रवक्ता कश्मीर सिंह जंडियाला और यूथ प्रधान अमरजोत सिंह ने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे किसानों पर कार चढ़ाकर भाजपा सरकार ने किसान विरोधी रवैया दिखाया है। इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने उत्तर प्रदेश के केंद्रीय मंत्री और उसके बेटे को जल्द गिरफ्तार करने के साथ पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने की भी मांग की।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों की मौत के बाद पंजाब में भी सियासी उबाल आ गया है। विरोधियों ने उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाने साधे। वहीं, मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा और पंजाब कांग्रेस के वर्किंग प्रधान कुलजीत नागरा को UP भेजा है। यह दोनों नेता वहां के हालात का जायजा लेंगे। अकाली दल ने भी इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है, हालांकि पूर्व CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सधी प्रतिक्रिया दी है। पंजाब में सरकार हों या विपक्षी दल, BJP को छोड़कर सब किसान आंदोलन को सपोर्ट कर रहे हैं। अब इस घटना के बाद फिर स सभी का रुख आक्रामक हो गया है।

मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में मासूम किसानों काे जान गंवानी पड़ी। डिप्टी सीएम और विधायक नागरा वहां जा रहे हैं। पंजाब सरकार पीड़ित किसान परिवारों की पूरी मदद करेगी।

नवजोत सिद्धू ने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है। केंद्रीय मंत्री के बेटे पर तुरंत कत्ल का केस दर्ज किया जाना चाहिए। उसे तुरंत गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे डालना चाहिए।

अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल ने केंद्रीय मंत्री के बेटे को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की। उन्होंने कहा कि किसी को भी इस तरह से सत्ता का गलत इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं होनी चाहिए।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि लखीमपुरी खीरी घटना की गहराई से जांच होनी चाहिए। पीड़ितों को हर हाल में इंसाफ मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि हिंसा या उसके लिए उकसाना किसी भी समस्या का हल नहीं है।