शर्मनाक: घायल बछड़े को नौच नौच कर खा गए कुत्ते,गंऊ रक्षा के नाम पर वाह वाही लूटने वाले फर्जी नेता गायब ! 

रुद्रसेना संगठन जल्द खोलने जा रही ऐसे फर्जी गंऊ रक्षकों के खिलाफ मोर्चा-मोहित

जालन्धर अनिल वर्मा
चाहे सरकार द्वारा गंऊ रक्षा के लिए कमीशन, संस्थाएं एवं गंऊशाला बनाई गई है मगर जब सडक़ों पर आवारा घूमने वाली गंऊएं घायल हो जाती हैं तो गंऊ सेवा के नाम पर अखबारों की सुर्खियां बटोरने वाले फोटोबाज नेता या फिर जिम्मेदार सरकारी अफसर कोई सुध नहीं लेता। कल देर रात जालन्धर कैंट स्थित दशहरा ग्रांऊड के नजदीक एक बछड़े को अज्ञात वाहन चालक ने बुरी तरह से घायल कर दिया जोकि बीच सडक़ कई घंटे तक इलाज के लिए तड़पता रहा। घटना की सूचना कई फोटोबाज नेताओं, सरकारी अफसरों की दी गई मगर किसी ने भी अपनी जिम्मेदारी समझते हुए उसका इलाज करवाना ठीक नहीं समझा।


जब इस घटना की सूचना रुद्रसना संगठन को मिली तो उन्होने तुरंत पुलिस लाईन स्थित पी.एफ.ए. के डाक्टर चंद्र भूषण को कई बार फोन किया मगर उन्होने फोन नहीं उठाया बाद में पीएफए के अंदर गंऊओं की देखभाल करने वाले विनोद कुमार को फोन किया तो उसने कहा कि रात के 9 बज गए हैं आप सुबह फोन करना।


बीच सडक़ तड़पते हुए बछड़े का इलाज करने के लिए 10 किलोमीटर दूर से रुद्रसेना संगठन के वायस चेयरमैन मोहित तथा महासचिव आशीष गौतम मौके पर पहुंचे और घायल बछड़े का जख्म साफ किया और दवाई लगाई। मगर घायल बछड़े को रखने के लिए कोई सुरक्षित स्थान नहीं मिल रहा था।

जब सुबह रुद्रसेना संगठन के सदस्य दौबारा घटनास्थल पर पहुंचे तो घायल बछड़े को कुत्ते नौच नौच कर खा चुके थे और उसकी मौत हो गई। श्री मोहित ने कहा कि यह मौत बछड़े की नहीं बल्कि उस सिस्टम की हुई जिनके कंधों पर सरकार ने गऊंओं की रक्षा करने की जिम्मेदारी डाली है। ऐेसे फोटोबाज गौसेवक , गौ शाला के नाम पर झंडे उठाने वाले सभी स्वयंभू प्रधानों, गौसेवकों, चेयरमैन, प्रबंधकों के खिलाफ रुद्रसेना संगठन आने वाले दिनों में मोर्चा खोलने की पूरी तैयार कर रही है तथा जल्दी ही इस मामले में जालन्धर के डिप्टी कमिशनर को शिकायत सौंपी जाएगी।