डिप्टी डायरेक्टर फैक्ट्री व उनकी सहायक पीएफ कमिश्नर पत्नी को बीच सड़क पर बेरहमी से पीटा,जान से मारने की भी कोशिश

पंजाब के सुरक्षित शहर के खिताब से नवाजे जालंधर में गुंडागर्दी का बड़ा मामला उजागर हुआ है। कार सवार युवक ने घर लौट रहे डिप्टी डायरेक्टर फैक्ट्री व उनकी सहायक पीएफ कमिश्नर पत्नी को बीच सड़क बेरहमी से पीट डाला। डिप्टी डायरेक्टर को धक्का मारकर हाइवे के बीच में फेंका ताकि गाड़ी के आगे आकर उनकी मौत हो जाए। हालांकि जब दंपती ने शोर मचाया तो वहां लोग इकट्‌ठा हो गए और आरोपी वहां से भाग निकला। घटना 5 मार्च की है लेकिन अब शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने थाना डिवीजन 8 में अज्ञात आरोपी युवक पर IPC की धारा 307, 323, 341, 506,509, 332, 353 व 186 के तहत केस दर्ज कर लिया है।

लुधियाना में तैनात लेबर विभाग के डिप्टी डायरेक्टर फैक्ट्रीज द्वारका दास ने बताया वह मकसूदां के गांव माड़ी हरनीयां नुस्सी में रहते हैं। उनकी पत्नी जशनदीप कौर सहायक पीएफ कमिश्नर हैं और जालंधर में तैनात हैं। 5 मार्च की शाम करीब 6.15 बजे वह ड्यूटी से घर लौटने के दौरान पत्नी को साथ लेकर PAP चौक से घर की तरफ जा रहे थे। जब उन्होंने लम्मा पिंड फ्लाइओवर क्रॉस किया तो पीछे से सफेद रंग की मारूति जैन कार नंबर PB 08AP-6262 ने अचानक उन्हें ओवरटेक किया। उसे एक युवक चला रहा था।

ओवरटेक करने के बाद फ्लाइओवर से पहले ही उसने अपनी कार उनकी कार के आगे लगा दी। उसके बाद युवक ने कार से नीचे उतरकर उनकी कार के टायर की तरफ इशारा किया। उन्हें लगा कि शायद उनकी कार का टायर पंक्चर हो गया है। वह गाड़ी से उतरकर टायर देखने लगे तो उक्त युवक ने किसी छोटे तेजधार हथियार से उनके सिर पर वार कर दिया। उन्होंने बचाव के लिए हाथ आगे किया तो उनकी हथेली पर चोट लगी। इसके बाद उसने उन्हें लात मारी और वह रोड के बीच गिर पड़े। उनकी पत्नी बचाने आगे आई तो उस युवक ने उन्हें भी धक्के मारे और उन्हें बेरहमी से पीटने लगा। उनकी पत्नी ने शोर मचाया तो वह अपनी कार के पास पहुंचा और उनके साथ मारपीट के लिए किसी चीज को ढूंढने लगा।

यह भी पढ़े– सिद्धू ने की डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता से मुलाकात,पुलिस कर्मियों से जुड़े अहम मुद्दे पर की बात

मौका देख वह जल्दी से अपनी पत्नी के सहारे उठकर अपनी कार में बैठने की कोशिश करने लगे तो आरोपी ने फिर उनकी गर्दन पर वार कर रोड पर फेंक दिया। उस वक्त नेशनल हाइवे पर काफी ट्रैफिक चल रहा था। युवक की कोशिश थी कि इससे वो किसी गाड़ी के आगे आ जाएं और उनकी मौत हो जाए। अगर उनकी पत्नी छुड़ाने की कोशिश करती तो आरोपी युवक उन पर भी हमला करता। इसके बाद उन्होंने जोर-जोर से शोर मचाना शुरू किया तो आरोपी लोगों को इकट्‌ठा होते देख अपनी कार समेत भाग निकला। इसके बाद उनकी पत्नी कार में बिठा उन्हें अस्पताल लेकर आई।

जिस जगह पर यह वारदात हुई, वो नेशनल हाइवे है। जहां से हर सेकेंड गाड़ियां गुजरती रहती हैं। इसके बावजूद दंपती पर हो रहे हमले को देखकर किसी ने भी बचाव की कोशिश नहीं की।