मेयर की सिफारिश पर मिशन कम्पांऊड की 6 अवैध दुकानों की सील खोलने में भी भ्रष्टाचार

  • 45 दिनों की मौहलत पर ठीक करने की शर्त पर किया था डीसील, अब फाइल गायब!

अनिल वर्मा
जेल रोड पर स्थित मिशन कंपाऊड में बनी अवैध दुकानों को निगम के बिल्डिंग विभाग की ओर से 2 मार्च को सील किया था। तत्कालीन बिल्डिंग इंस्पैक्टर अजीत शर्मा ने इन दुकानों संबंधि पेश की रिपोर्ट में कहा था कि ये सभी दुकानें अवैध है तथा रिहायशी मकान को अंदर ही अंदर तबदील करके बनाई गई हैं। इसकी रिपोर्ट कमिशनर तक पहुंचने के बाद इन सभी छ: दुकानों को अवैध घोषित करते हुए सील कर दिया गया था। वहीं मेयर जगदीश राजा की सिफारिश के बाद इन दुकानों को एक सप्ताह बाद ही डीसील करके रिहायशी मकान में तबदील करने के लिए 45 दिनों की मौहलत पर खोल दिया गया था।


मगर छ: महीने बीतने के बाद भी मामला ठंडा होते देख अब इस फाइल को रिकार्ड से गायब कर दिया गया है। मौके पर बनी अवैध दुकानों को ठीक करने के लिए बिल्डिंग विभाग की ओर से कोई कोशिश नहीं की गई उल्टा यहां सभी दुकानों में कपड़ों की दुकानें, हैंडलूम तथा ज्योतिश केंद्र आदि का काम किया जा रहा है। इन दुकानों संबंधि मौजूदा बिल्डिंग इंस्पैक्टर दिनेश जोशी ने एक बार भी मौके का दौरा नहीं किया और न ही प्राप्टी मालिक को कोई नोटिस ही जारी किया। लिहाजा यहां मेयर का दबदबा अभी भी साफ देखा जा रहा है। बता दें कि मेयर बनने के बाद जगदीश राजा ने कई अवैध इमारतों को खुलकर सरंक्षण दिया जिसमें बड़े बड़े कमर्शियल प्रौजैक्ट शामिल हैं। इन अवैध इमारतों के खिलाफ कारवाई करने के लिए बिल्डिंग विभाग विफल साबित हो रहा है। इन सिफारिशी प्रौजेक्टों में निगम के राजस्व को कई बार बड़ा नुक्सान झेलना पड़ा।

यहां मौजूदा एटीपी विनोद ने बताया कि उन्होने कुछ ही देर पहले इस सैक्टर का चार्ज संभाला है तथा इंस्पैक्टर दिनेश जोशी से रिपोर्ट लेकर अगली कारवाई जल्द की जाएगी।