ऑनलाइन सिस्टम में खराबी का खामियाज़ा,अब सेवा केंद्रों पर शुल्क देकर करवानी होगी रजिस्ट्रेशन

सीनियर सिटीजन यानी 60 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों व 45 साल से ज्यादा गंभीर बीमारियों को सरकारी अस्पताल में कोविड वैक्सीन मुफ्त लगेगी लेकिन रजिस्ट्रेशन के लिए 30 रुपए वसूले जाएंगे। यह कारनामा जिला प्रशासन का है, जिन्होंने सेवा केंद्रों के जरिए रजिस्ट्रेशन की सुविधा दी है लेकिन इसके लिए 30 रुपए फीस भी तय कर दी है।

कोविड वैक्सीन के सेहत विभाग के ऑनलाइन सिस्टम में आई खराबी का खामियाजा अब लोगों को जेब ढीली कर चुकाना पड़ेगा। हालांकि अफसर इसे सुविधा का नाम दे रहे हैं। DC घनश्याम थोरी का कहना है कि लोगों की सहूलियत के लिए यह कदम उठाया गया है। उन्होंने कहा कि सभी योग्य लाभपात्रियों को वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आना चाहिए ताकि कोरोना के बुरे असर से बचा जा सके।

जिले में इस वक्त 33 सेवा केंद्र चल रहे हैं, जिनमें आज यानी वीरवार से कोविड वैक्सीन रजिस्ट्रेशन की सुविधा शुरू कर दी गई है। यहां से रजिस्ट्रेशन के इच्छुक लोगों को अपना आधार कार्ड, मोबाइल फोन और अगर पहले से कोई बीमारी है तो उसका सर्टिफिकेट लेकर आना होगा। सेवा केंद्र में वैक्सीनेशन का सिस्टम मोबाइल पर OTP आधारित होगा। जब भी सेवा केंद्र में उनकी रजिस्ट्रेशन की जाएगी तो मोबाइल लाना अनिवार्य है क्योंकि उस पर आया नंबर ही पासवर्ड होगा।

सीनियर सिटीजंस व बीमारी वाले 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को तीसरे फेज में कोविड वैक्सीन लगाई जा रही है। इसके लिए आरोग्य सेतु एप या कोविन पोर्टल पर मुफ्त रजिस्ट्रेशन कराई जा सकती है। सरकारी अस्पताल में तो मौके पर ही रजिस्ट्रेशन भी की जा रही है लेकिन सेहत विभाग का पोर्टल ही नहीं चल रहा। इस वजह से दिक्कत आ रही थी कि जो लोग खुद रजिस्ट्रेशन करवाकर सरकारी अस्पताल जा रहे, उनके रजिस्ट्रेशन का ब्यौरा ही वहां नजर नहीं आ रहा। इस खामी को दूर करने के बजाय सेवा केंद्र को कमाई का ठेका दे दिया गया।