Bitcoin के मालिक की मौत, निवेशकों के फंसे 1300 करोड़


 जरा सोचिए कि खाने की थाली आपके सामने सजी हुई है, लेकिन आप उसे खा नहीं सकते। तो आपको कितना अफसोस होगा। एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां पर अरबों रुपए एक लॉकर में बंद हैं लेकिन उसे कोई भी नहीं निकाल सकता।

क्योंकि उसके मालिक की मौत हो गई है, और उसने इन रुपयों की सुरक्षा के लिए जो पासवर्ड बनाया था, वह भी उसके साथ चला गया। यहां तक कि मृतक की पत्नी को भी उस लॉकर का पासवर्ड नहीं पता है।

जानकारी के मुताबिक 30 साल के मृतक का नाम गेराल्ड कॉटन है और उकी क्वड्रिगासीएक्स नाम से एक बिटक्वाइन कंपनी है। बीते दिसंबर को गेराल्ड भारत दौरे पर आए थे। जहां पर आंत संबंधी बीमारी के कारण उनकी मौत हो गई।

इस बात की जानकारी कंपनी के सोशल मीडिया पेज के जरिए दी गई। लेकिन अब सबसे बड़ी समस्या यह खड़ी हो गई है कि उन्होंने लगभग 1300 करोड़ रुपए के बिटक्वाइन जिस लॉकर में रखे थे, वह पासवर्ड भी उनके साथ चला गया।

गेराल्ड ने अपनी कंपनी के साथ ही अनाथ बच्चों के लिए कई अनाथालय भी खोले थे। गेराल्ड के मरने की खबर उस समय सामने आई थी, जब उनकी पत्नी जेनिफर रॉबर्टसन और उनकी कंपनी ने कनाडा की कोर्ट में क्रेडिट प्रोटेक्शन की अपील दायर की थी।

अपील दायर कर यह कहा गया था कि वे गेराल्ड के इनक्रिप्टेड अकाउंट को अनलॉक नहीं कर पा रहे हैं। जिस कारण लगभग 190 मिलियन डॉलर की संपत्ति बेकार पड़ी हुई है। गेराल्ड ने इस बिटक्वाइन को सुरक्षित रखने के लिए जो पासवर्ड बनाया था, वह उनकी पत्नी को भी नहीं पता है।

 

वहीं अब इस मामले के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कई तरह की बातें शुरू हो गई हैं। लोग इस धोखाधड़ी का मामला बता रहे हैं। तो वहीं कुछ लोगों का कहना है कि अगर गेराल्ड को आंत संबंधी बीमारी थी तो वह भारत गए ही क्यों थे।

यही नहीं लोगों ने तो यहां तक कहा है कि उन्हें विश्वास ही नहीं है कि वह भारत गए ही थे। लोग इसे किसी फिल्मी कहानी की तरह बता रहे हैं, जो कि उनके द्वारा ही बनाई गई है।