AIIMS के डॉक्टरों को हर पल सता रहा बंदरों का डर, ट्वीट कर सांझा किया दर्द

नई दिल्लीः बंदरों के आतंक को लेकर एम्स के रेजिडेंट डॉक्टरों ने खुद सोशल मीडिया पर अपना दर्द साझा किया है। डॉक्टरों और स्टाफ में बंदरों का भय इस कदर है कि रास्ते में डंडे लेकर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर जवाहर सिंह ने छात्रावास की कैंटीन में बंदरों के हमले की तस्वीर ट्विटर पर साझा की है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि रास्ते में जाओ तो बंदरों का खतरा और कैंटीन बैठे तो डर लगता है कि पता नहीं कब बंदर खाना छीनने के चक्कर में दांत या पंजे मार दें। डॉ. जवाहर सिंह यह भी लिखा है कि अस्पताल में रेबीज के इंजेक्शन नहीं है। ऐसे में वहां रहने वाले स्टाफ को डर सता रहा है कि बंदर के काटने पर कहां इलाज कराएंगे।

वहीं, अन्य डॉक्टर ने लिखा कि सीएन टावर के पास तक बंदर पहुंचने लगे हैं। वहां बैठे मरीज खाना निकालते हैं तो बंदर छीनकर भाग जाते हैं।

एम्स के पूर्व रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. हरजीत सिंह भट्टी ने बताया कि उन्होंने इस बाबत प्रशासन और मंत्रालय को पत्र लिख है। हालांकि, उनकी मांग के बावजूद अभी तक बंदरों और आवारा कुत्तों को एम्स परिसर से पकड़कर नहीं ले जाया गया है।