राजनीतिक सरंक्षण में बनी शहर की सबसे बड़ी अवैध इमारत (दाल फैक्टरी) सहित 3 को लगी सील, शिकायतकर्ता ने Highcourt जाने की दी थी चेतावनी

अनिल वर्मा

लॉकडाउन के दौरान बनी अवैध इमारतों के खिलाफ निगम कमिश्नर करनेश शर्मा द्वारा जारी किए गए सख्त आदेशों के उपरांत बिल्डिंग विभाग ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है आज सुबह लमां पिंड के नजदीक शहर की सबसे बड़ी अवैध इमारत के नाम से जाने जाती दाल फैक्ट्री के सभी यूनिटों को दिन चढ़ते ही ताला लगा दिया गया।

शिकायतकर्ता विजय कुमार द्वारा  यह मामला  निगम कमिश्नर करनेश शर्मा तक पहुंचाने के बाद  काफी तूल  पकड़ा गया था  जिसके बाद बिल्डिंग ईस्पेक्टर नीरज शर्मा को शो कॉज नोटिस भी जारी किया गया था। बिल्डिंग इस्पेक्टर किरनदीप तथा ड्राफ्टमैन जसपाल की ओर से दाल फैक्ट्री के पीछे बने तीनों यूनिटों की पैमाइश की गई थी ओर फेक्टरी मालिक को तुरंत काम बंद करने तथा तैयार किए जा रहे तीनों यूनिटों के दस्तावेज पेश करने के लिए नोटिस जारी किया गया था मगर राजनीतिक संरक्षण मिलने के बाद फैक्ट्री मालिक ने ना तो नगर निगम के नोटिसों का कोई जवाब दिया और ना ही अवैध निर्माण को रोका गया। नोटिस जारी होने के बाद भी इन तीनों में से एक यूनिट के ऊपरी हिस्से पर एक बड़ा लेंटर डाला गया जिसके बाद ज्वाइंट कमिश्नर हरचरण सिंह ने बिल्डिंग विभाग को फटकार लगाते हुए रिपोर्ट पेश करने के लिए आदेश जारी किए।

इसी के साथ वेरका मिल्क प्लांट के नजदीक सलेमपुर मुसलमानों में बन रही अवैध कमर्शियल बिल्डिंग को भी सील लगा दी गई यह कार्रवाई ATP रविंद्र शर्मा तथा बिल्डिंग इस्पेक्टर किरणदीप सिंह की ओर से की गई बिल्डिंग इस्पेक्टर किरनदीप ने बताया कि आने वाले दिनों में सेक्टर 2-3-4 में बनी सभी अवैध  इमारतों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की जाएगी जिनमें से कुछ इमारतों को डिमोलिश तथा सील लगाई जाएगी जिनकी कागजी कारवाई लगभग पूरी हो चुकी है। कमिश्नर साहब के आदेश मिलने के बाद कार्रवाई की जायेगी।