डाक्टरों ने की लापरवाही , आर्थो वार्ड के बाहर ईलाज़ के लिए तीन दिन पड़ा रहा मरीज

गुरु नानक देव अस्पताल की आर्थो वार्ड के समीप एक मरीज पिछले तीन दिन से पड़ा है। उसके तन पर कपड़ा भी नहीं है। मानसिक रूप से विक्षिप्त होने की वजह से वह अस्पताल में ही घूमता रहा और फिर आर्थो वार्ड के नजदीक फर्श पर लेट गया।

इस दौरान न तो अस्पताल के डॉक्टरों ने और न ही सहयोगी स्टाफ ने मरीज को देखा। सरकारी अस्पताल में पड़े इस मरीज को इलाज के साथ साथ खाना भी चाहिए था। वह तड़प रहा था, सिसक रहा था पर अफसोस संवेदनाशून्य सिस्टम ने इसकी सुधि नहीं ली।

रविवार को अस्पताल में पहुंचे उत्तरप्रदेश कल्याण परिषद के प्रवक्ता रामभवन गोस्वामी ने मरीज को देखा तो तत्काल मेडिकल सुप्रिटेंडेंट डॉ. शिवचरण को फोन किया। डॉ. शिवचरण ने कहा कि मैं अभी मरीज को फौरन इमरजेंसी वार्ड में दाखिल करवाता हूं। इसके बाद अस्पताल के कर्मचारी आए और मरीज को वार्ड में ले गए।