Latest news

मां के गहने गिरवी रख वर्ल्ड पैरा बैडमिंटन चैम्पियनशिप में खेलने पहुंचे, तीन बार गाेल्ड मेडल किया अपने नाम



अपने खर्च पर जाकर वर्ल्ड पैरा बैडमिंटन चैम्पियनशिप में तीन बार गाेल्ड मेडल जीत चुके गांव तेलूपुरा के संजीव कुमार को सीएम कैप्टन अमरिंदर 9 जुलाई काे महाराजा रणजीत सिंह अवाॅर्ड से सम्मानित करेंगे। 2017, 18 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में तीन गोल्ड मेडल जीत चुके संजीव ने कहा कि उन्हें मेडल मिलने की खुशी है पर सरकार से नाैकरी की भी दरकार है। अवाॅर्ड में जितने पैसे मिलते हैं, उससे ज्यादा विदेश में एक मैच खेलने में खर्च हो जाते हैं। जिक्रयाेग है कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने संजीव कुमार काे जनवरी में एक लाख रुपए की राशि देकर सरकारी नौकरी का वादा किया था पर छह महीने बाद भी नाैकरी नहीं मिल पाई। जनवरी 2019 में पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ ने संजीव की सीएम से मुलाकात करवाई थी।

ओलिंपिक क्वालीफायर टूर्नामेंट खेलने के लिए स्टेट स्पोर्ट्स काउंसिल से नहीं मिला कोई सहयाेग :

संजीव कुमार ने बताया कि ओलिंपिक क्वालीफायर टूर्नांमेंट खेलने से पहले 12 मार्च को उन्होंने खेल विभाग को एक पत्र लिखकर उसे सहयोग करने की अपील की थी। इस पर खेल विभाग और पंजाब स्टेट स्पोर्ट्स काउंसिल द्वारा 29 मार्च को उन्हें एक लेटर भेजा गया जिसमें लिखा था कि आपको साल 2015-16 और 2016-17 सेशन के दौरान जीते गए मेडल का 3 लाख 50 हजार रुपए कैश अवाॅर्ड और वित्तीय सहायता पहले ही भेज दी गई है। इसलिए पंजाब स्टेट स्पोर्ट्स काउंसिल अाैर ज्यादा वित्तीय सहायता देने में असमर्थ है। संजीव ने रोष जताते हुए कहा कि अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को विभाग से सहयोग नहीं मिलता।

खेल मंत्री राणा सोढी ने सरकारी नौकरी और  सहयोग देने के नाम पर दिया सिर्फ आश्वासन :
संजीव कुमार ने बताया कि उन्होंने खेल मंत्री गुरमीत सिंह राणा सोढी के साथ मुलाकात कर आर्थिक सहयोग की मांग की थी। सोढी ने आश्वासन दिया था पर असल में कुछ नहीं हुअा। वह लाेगाें से उधार लेकर अाैर घर का साेना गिरवी रखकर क्वालीफायर मैच खेल रहे हैं। संजीव काे मलाल है कि जहां क्रिकेट में फर्जी डिग्री वाली प्लेयर काे शतक बनाने पर पंजाब सरकार ने डीएसपी की नौकरी दे दी वहीं देश के लिए कई गाेल्ड अाैर अन्य मेडल जीत चुके प्लेयर की अनदेखी की जा रही है। इस कारण पंजाब के खिलाड़ी आगे नहीं बढ़ रहे।