फूड सप्लाई और पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के फर्जी अफसरों को दुकानदारों ने पीटा

कभी फूड सप्लाई तो कभी पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड का अफसर बनकर बेकरी एसोसिएशन के 7 मेंबर्स समेत दो दर्जन से ज्यादा लोगों को सील दुकानों और फैक्ट्रियों की वीडियो दिखाकर ठगने वाले दो शातिर ठगों को दुकानदारों ने ही ट्रैप लगाकर पकड़ लिया। दरअसल दुकानदारों को उन पर शक हो गया था। वीरवार की शाम बेकरी शॉप के मालिक को फूड इंस्पेक्टर बन आरोपी ने जालंधर बाईपास के पास बुलाया। प्लानिंग के तहत दुकानदार मौके पर पहुंच गया। जैसे ही दोनों आरोपी वहां पहुंचा तो पहले से अलर्ट दुकानदार के साथियों ने आरोपियों को दबोच लिया। कुछ इस तरह दी धमकी…

लोगों ने जब उन्हें पकड़ा तो आरोपी अकड़ दिखाने लगा। वो बोला, मैंनू जाणदे नीं तुसी अफसरां नाल उठणी बैठणी आ मेरी। तुहाड्डे सारेयां दीयां दुकानां बंद करा दूं। इसके बाद दुकानदारों ने उन्हें धुन दिया और सलेम टाबरी पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस मुलाजिमों ने भी आरोपियों के दो चार हाथ लगा दिए। पुलिस को आरोपी की जेब से एक आधार कार्ड, लाइसेंस मिला, जिस पर मुंडियां का पता है। हालांकि आरोपी खुद को धूरी का बताता था। देर शाम तक पुलिस मामले की जांच में जुट रही। वहीं, शिकायत करने वालों की थाने में लाइन लगी रही। दोनों आरोपी धमकाकर दुकानदारों से 50 हजार रुपए मांगते थे और फिर 15-20 हजार लेकर चले जाते थे।

न्यू लखनऊ बेकरी के मालिक रिशू ने बताया कि उनकी समराला चौक के नजदीक बेकरी शाॅप है। पिछले कुछ दिनों से मार्केट में बाइक पर दो लोग घूम रहे थे, जोकि सभी बेकरी पर जाकर खुद को फूड सप्लाई और पॉल्यूशन बोर्ड के अफसर बताते हैं। कुछ दिन पहले उनके पास भी आए, जिन्होंने कहा कि उन्हें शिकायत मिली है कि वो गलत सामान बेचते हैं, वो सैंपल भरने के लिए आए हैं। रिशू ने कहा कि दस्तावेज उनके पास पूरे हैं और बेकरी में सफाई भी है। इसके बाद ठग बोले कि ठीक है, सैंपल नहीं भरते, लेकिन 50 हजार लगेंगे। काफी देर बात होने के बाद आरोपी 15 हजार रुपए लेकर चले गए। बाद में पता चला कि आरोपियों ने पूरी मार्केट में उनकी एसोसिएशन के लोगों को ठगा है। इसमें हरीश की समराला चौक दुकान से 12 हजार, जालंधर बाईपास से हरनेक सिंह से 15 हजार, गुरनाम दास बेकरी से 10 हजार रुपए लेकर गए हैं।

पिछले दो दिन से आरोपी वरिंदर नाम के शख्स जिसकी भी बेकरी शाॅप है के पीछे लगा था। वीरवार को उसने वरिंदर को फोन किया वो उससे मिलना चाहता है। वो फूड इंस्पेक्टर है। आरोपी ने कहा कि वो उसे आकर मिले। ये कहकर आरोपियों ने पहले उसे बस्ती चौक, काराबारा और अंत में जालंधर बाईपास में बुलाया। वहां वरिंदर अपनी बैलिनो कार में बैठा था। उसने पहले ही अपनी बेकरी एसोसिएशन को अलर्ट कर दिया था। जैसे ही आरोपी आए तो लोगों ने उन्हें दबोच लिया। इसके बाद उसे थाने ले गए। पुलिस ने दुकानदारों से सीसीटीवी फुटेज भी ली है, जिसमें आरोपी रिकार्ड हुए हैं, जब वो पैसे लेकर आते थे।