पंजाब केबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने किसानों से की यह अपील,

रोज़ाना पोस्ट

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बाद अब राज्य के कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने भी किसानों से अपील की है कि वह कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ विरोध के दौरान मोबाइल टावरों को निशाना न बनाएं। धर्मसोत ने कहा कि इससे राज्य को ही नुकसान हो रहा है। टेलीफोन टावरों के न चलने से बच्चों की आनलाइन पढ़ाई बाधित हो सकती है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में परीक्षाएं चल रही हैं। जिओ टावर बंद करने या तोड़ने से बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ रहा है, इसलिए दिल्ली की तरह पंजाब में भी शांति से रोष प्रदर्शन करना चाहिए। धर्मसोत शनिवार को गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब में छोटे साहिबजादों बाबा जोरावर सिंह, बाबा फतेह सिंह और माता गुजरी जी को नमन करने पहुंचे थे। शहादत पर उन्होंने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी ने मानवता के लिए अपने परिवार की कुर्बानी दी। हमें उनके जीवन से प्रेरणा लेकर उनके सपनों को साकार करना चहिए। दिल्ली में किसान आंदोलन पर कहा कि देश का अन्नदाता कड़ाके की सर्दी में सड़कों पर है। केंद्र सरकार अपनी जिद पर अड़ी है। कांग्रेस किसानों के साथ डटकर खड़ी है। आने वाले दिनों में किसानों का हर प्रकार का साथ देंगे।

बता दें, इससे पहले गत दिवस सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोगों से दूरसंचार सेवाओं को बाधित न करने की अपील की थी।  कैप्टन ने कहा कि कोविड महामारी के समय में दूरसंचार सेवाएं लोगों के लिए और भी महत्वपूर्ण हो गई हैं। यही नहीं इन दिनों विद्यार्थी आनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं। ऐसे में इस तरह की घटनाओं से आम जनता और विद्यार्थियों को नुकसान होगा। टेलीकॉम कनेक्शन जबरन काट देने या टेलीकॉम सेवाएं देने वालों के मुलाजिमों के साथ हाथापाई करके कानून को अपने हाथों में न लेने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी कार्यवाहियां पंजाब और इसके भविष्य के हित में नहीं हैं।

 कैप्टन ने कहा कि दूरसंचार सेवाओं में विघ्न पडऩे से राज्य में आर्थिक संकट और भी गहरा हो जाएगा। इसका कृषि क्षेत्र के साथ-साथ किसानी भाईचारे पर भी गंभीर प्रभाव पड़ेगा। यही नहीं दूरसंचार क्षेत्र में और ज्यादा निवेश को आकर्षित करने की सरकार की कोशिशों पर भी बुरा प्रभाव पड़ेगा।